blogid : 3738 postid : 3138

अपनाएं यह उपाय जरूर होगी धन की वर्षा

Posted On: 8 Nov, 2012 Others में

Special Daysव्रत-त्यौहार, सितारों के जन्म दिन, राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय महत्व के घोषित दिनों पर आधारित ब्लॉग

महत्वपूर्ण दिवस

1021 Posts

2135 Comments

दीपावली का त्यौहार आ ही चुका है. दीपावली सिर्फ दीपों का नहीं बल्कि त्यौहारों के समूह का भी त्यौहार है. दीपावली का त्यौहार पांच दिन तक चलता है जिसकी शुरुआत होती है धनतेरस से. इतनी महंगाई के बावजूद भी यह त्यौहार आज समाज में अपनी पहचान बनाए हुए है. भगवान कुबेर और धनवंतरी जी की पूजा के साथ संपन्न होने वाला यह त्यौहार आज भी वैभव का परिचायक है.


Dhanteras Festival 2012

पंचांग के अनुसार हर साल कार्तिक कृष्ण की त्रयोदशी के दिन धनवंतरि त्रयोदशी मनाई जाती है. इसे ही धनतेरस कहा जाता है. समुद्र मंथन में आज के समय ही धनवंतरि प्रकट हुए थे और आज के दिन को ही आयुर्वेद के देवता धनवंतरि के जन्म दिवस के रूप में भी मनाया जाता है. धन संपति की प्राप्ति हेतु कुबेर देवता के लिए घर के पूजा स्थल पर दीप दान एवं मृत्यु देवता यमराज के लिए मुख्य द्वार पर भी दीप दान करने का विधान है.


धनतेरस और बर्तन

धनतेरस के दिन नए बर्तन या सोना-चादी खरीदने की परंपरा है. इस पर्व पर बर्तन खरीदने की शुरुआत कब और कैसे हुई, इसका कोई निश्चित प्रमाण नहीं है, लेकिन एक मान्यता के अनुसार जन्म के समय धनवंतरि के हाथों में अमृत कलश था. यही कारण होगा कि लोग इस दिन बर्तन खरीदना शुभ मानते हैं.

Diwali Pujan Vidhi


धनतेरस के दिन क्यूं होता है दीपदान

कहते हैं कि धनतेरस की संध्या को यम के नाम का दिया घर की देहरी पर रखा जाता है और उनकी पूजा करके प्रार्थना की जाती है कि वह घर में प्रवेश नहीं करें और किसी को कष्ट न पहुंचाएं. देखा जाए तो यह धार्मिक मान्यता मनुष्य के स्वास्थ्य और दीर्घायु जीवन से प्रेरित है.


Story of Dhanteras: धनतेरस की कथा

यम के नाम से दिया निकालने के बारे में भी एक पौराणिक कथा है. मान्यता है कि एक बार राजा हिम ने अपने पुत्र की कुंडली बनवाई, इसमें यह बात सामने आई कि शादी के ठीक चौथे दिन सांप के काटने से उसकी मौत हो जाएगी. हिम की पुत्रवधू को जब इस बात का पता चला तो उसने निश्चय किया कि वह हर हाल में अपने पति को यम के कोप से बचाएगी. शादी के चौथे दिन उसने पति के कमरे के बाहर घर के सभी जेवर और सोने-चांदी के सिक्कों का ढेर बनाकर उसे पहाड़ का रूप दे दिया और खुद रात भर बैठकर उसे गाना और कहानी सुनाती रही ताकि उसे नींद न आए.

दीपावली केवल पर्व नहीं बल्कि एक संस्कृति और परंपरा है

रात के समय जब यम सांप के रूप में उसके पति को डसने आए तो वह आभूषणों के पहाड़ को पार नहीं कर सके और उसी ढेर पर बैठकर गाना सुनने लगे. इस तरह पूरी रात बीत गई. अगली सुबह सांप को लौटना पड़ा. इस तरह उसने अपने पति की जान बचा ली. माना जाता है कि तभी से लोग घर की सुख-समृद्धि के लिए धनतेरस के दिन अपने घर के बाहर यम के नाम का दिया निकालते हैं ताकि यम उनके परिवार को कोई नुकसान न पहुंचाएं.


धनतेरस मुहूर्त: Dhanteras 2012

वर्ष 2012 में धनतेरस के दिन खरीदारी के दो शुभ मुहूर्त हैं पहला शाम को 5 बजकर 20 मिनट से रात्रि 9 बजकर 30 मिनट तक खरीदारी के लिए अच्छा समय है. इसके बाद रात्रि 11 बजकर 30 मिनट से 2 बजे तक खरीदारी करना शुभ माना गया है.


Kuber Mantra in Hindi: कुबेर मंत्र

धनतेरस के दिन कुबेर मंत्र का जाप करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है. कुबेर का मंत्र इस प्रकार है: ओम कुबेर त्वम धन धीषम गृहते कमला इश पिता. ताम देविम, प्रेसयातु त्वम मम गृहते नमो नम:.

यूं तो इस महंगाई के जमाने में यह त्यौहार सिर्फ पूंजीपतियों के लिए सार्थक रह गया है लेकिन विज्ञान और इंटरनेट के जमाने में भी जिस भारत की आस्था और धर्म को आज तक कोई हिला नहीं सका वहां यह पर्व आज भी सभी वर्ग के लोग अपनी-अपनी शक्ति और सामर्थ्य के अनुसार मनाते हैं.

Dhanteras Pujan Vidhi in Hindi

History of Diwali

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग