blogid : 3738 postid : 808690

सरकारी नौकरी छोड़ इसने भारत के हर घर में दूध पहुँचाया और बन गया दुग्ध-क्रांति का जनक

Posted On: 26 Nov, 2014 Others में

Special Daysव्रत-त्यौहार, सितारों के जन्म दिन, राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय महत्व के घोषित दिनों पर आधारित ब्लॉग

महत्वपूर्ण दिवस

1021 Posts

2135 Comments

आज वर्गीज़ कुरियन का जन्मदिन है. श्वेत क्रांति के जनक के रूप में मशहूर कुरियन ने अमूल की शुरूआत कर न सिर्फ भारत को आत्मनिर्भर बनाया अपितु विश्व में दूध का सबसे बड़ा उत्पादक भी बना दिया. अमूल ने सहकारिता के द्वारा गरीबी दूर करने का एक सफल सूत्र निकाला और उसे आजमाकर दुनिया को दिखा भी दिया. कई दूध संघ उनके जन्मदिन को राष्ट्रीय दूध दिवस के रूप में मनाते हैं. तो आइए, आज के दिन जानते हैं कि ‘ऑपरेशन फ्लड’ के सेनापति के जीवन की कुछ विशेष बातों को….



verghesekurien



वर्गीज़ कुरियन का जन्म केरल के कोझ़िकोड में हुआ था. मेटालर्जिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए उन्हें स्कॉलरशिप दी गई. स्कॉलरशिप की शर्तों के कारण उन्हें गुजरात के बदहाल हो चुके ‘आनंद’ में मजबूरी में काम करना पड़ा.


Read: अपने अविष्कारों से इन महान वैज्ञानिकों ने गढ़ी अपनी ही मौत की कहानी


कहा जाता है कि एक बार कृषि मंत्री की नज़र उन पर टेढ़ी हुई. उस मंत्री ने उन्हें राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड के निदेशक के पद से हटाने की जोरदार कोशिश की जिसके संस्थापक सदस्यों में से कुरियन एक थे. लेकिन हुआ इसके विपरीत. मंत्री को ‘डोंट टच कुरियन’ की चेतावनी देते हुए बर्खास्त कर दिया गया.




amul



‘अमूल’ के सफल ब्रांड बनने के बाद भी उन्होंने ‘आनंद’ नहीं छोड़ा. वहाँ उनका सम्मान राजा की तरह किया जाता था. इंस्टीट्यूट ऑफ रूरल मैनेजमेंट में उनके छात्र घास पर बैठकर उनसे ग्राम प्रबंधन के गुर सीखते थे. वो साधारण घर में रहते थे. उनके कीमती सामानों में एक तस्वीर थी जो तब खींची गई थी जब हिलेरी और तेनजिंग एवरेस्ट पर चढ़े थे.


Read: आखिर क्यों आइंस्टीन के दिमाग के 200 टुकड़े कर दिए गए थे, जानिए एक बेहद रोचक सत्य


वर्गीज़ कुरियन और श्याम बेनेगल ने मिलकर राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म मंथन की कहानी भी लिखी है जिसे करीब 5 लाख किसानों ने वित्तीय सहायता दी. विश्व बैंक ने गरीबी उन्मूलन के लिए अमूल मॉडल को चिन्हित किया है. अमूल मॉडल को व्यापक और लोकप्रिय बनाने में वर्गीज़ की बड़ी भूमिका रही है. ‘अमूल’ के महत्तव का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि स्वयं जवाहर लाल नेहरू इसके उद्घाटन के अवसर पर आए थे. Next……



Read more:

क्रिकेटर डॉन ब्रेडमैन से जुड़ी रोचक बातें

Kasturba Gandhi: इनके त्याग से ‘महान’ बने महात्मा गांधी

Ruskin Bond profile in Hindi: बच्चों के लिए रोचक कहानी रचने वाले आधुनिक दादाजी


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग