blogid : 3738 postid : 430

जयललिता : एक सफल अभिनेत्री और कद्दावर नेता

Posted On: 13 Apr, 2011 Others में

Special Daysव्रत-त्यौहार, सितारों के जन्म दिन, राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय महत्व के घोषित दिनों पर आधारित ब्लॉग

महत्वपूर्ण दिवस

1021 Posts

2135 Comments

कामयाबी और शोहरत सिर्फ बड़े लोगों के लिए होती है यह कहावत अब पुरानी हो गई है. अगर दिल में मंजिल की छाप हो और दिल में कर्म करने की इच्छाशक्ति तो आप नामुमकिन को भी मुमकिन बना सकते हैं. जीवन के हर संघर्ष को अपनी ताकत बना कर आगे बढ़ने वालों की हमेशा जीत होती है. ऐसी ही एक महिला हैं जयललिता. अपने जीवन में जयाललिता ने हर कदम पर मुसीबतों का मुंहतोड़ जवाब देकर सफलता हासिल की है.


Jayalalitha24 फरवरी, 1948 को जयाललिता का जन्म एक अय्यर परिवार में हुआ था. जयाललिता का पूरा नाम जयललिता जयराम है. मात्र दो वर्ष की उम्र में जयाललिता के पिता उनकी माता को छोड़कर चले गए थे.  बचपन से ही गरीबी में घिरी जयाललिता को परिस्थितियों ने मजबूती प्रदान की. विषम परिस्थितियों में भी जयललिता ने खुद को तमिलनाडु की राजनीति और तमिल सिनेमा में स्थापित किया.


बैंगलोर में पढ़ाई करने के बाद जयललिता अपनी मां के साथ मद्रास लौट कर आ गई थीं. मद्रास से ही उन्होंने अपने फिल्मी कैरियर की शुरुआत की. 1961 में पहली बार जयललिता ने एक अंग्रेजी फिल्म में काम करके अपने कैरियर की शुरुआत की थी. जयललिता का फिल्मी कैरियर बेहद शानदार था. जयललिता ने इज्जत नामक हिन्दी फिल्म में धर्मेंद्र के साथ भी काम किया है. अपने शानदार फिल्मी कैरियर के बाद जयाललिता ने अपना ध्यान राजनीति में लगा दिया.


1981 में जयाललिता अन्ना डीएमके पार्टी में शामिल हुई थीं और 1988 में राज्य सभा के लिए नामांकित की गईं. इसी साल वह सांसद भी बन गईं. एम जी रामाचंद्रन के साथ उनकी नजदीकियों ने उन्हें राजनीति में स्थापित होने में मदद की.


एम जी रामाचंद्रन की मौत के बाद उनकी पत्नी की जगह जयललिता को टिकट दिया गया जिसपर काफी बवाल भी मचा, पर जयललिता ने 1989 के चुनावों में जीत हासिल की और विपक्ष की तरफ से जीतने वाली पहली महिला बनीं. 1991 में राजीव गांधी की मौत के बाद जयललिता ने कांग्रेस का दामन थाम लिया और उन्हें अपार सफलता मिली तथा जयललिता तमिलनाडु की पहली महिला मुख्यमंत्री बनीं. जयाललिता ने अपने मुख्यमंत्रित्व काल में कई अहम कार्य कराए जैसे लड़कियों की शिक्षा पर जोर दिया, जल संग्रहण के लिए प्रदेश में संयंत्र लगाए आदि. लेकिन 1996 में जयाललिता को डीमके से हार झेलनी पड़ी.


जयललिता के जीवन में भी कई विवाद आए. सरकारी धन का निजी सुखों के लिए इस्तेमाल करने से लेकर धोखाधड़ी तक के आरोप उन पर लगे पर उन्होंने सभी मुश्किलों का सामना हंसते-हंसते किया है.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग