blogid : 3738 postid : 643707

तब इनका नाम माला सिन्हा नहीं पड़ता

Posted On: 11 Nov, 2013 Bollywood में

Special Daysव्रत-त्यौहार, सितारों के जन्म दिन, राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय महत्व के घोषित दिनों पर आधारित ब्लॉग

महत्वपूर्ण दिवस

1021 Posts

2135 Comments

आज फिल्मों में काम करने वाले कलाकार को बहुमुखी प्रतिभा का धनी माना जाता है. ऐसे कलाकार अपनी एक्टिग के साथ-साथ डांस और कुछ हद तक सिगिंग में भी जौहर दिखा रहे हैं. हिन्दी सिनेमा के शुरुआती दौर की अगर बात की जाए तो ऐसे कम ही कलाकार थे जिनके अंदर ये तीनों गुण रहे हों.  इन्हीं कालाकरों में से एक हैं माला सिन्हा (Mala Sinha) . बचपन से ही गायिकी और अभिनय का शौक रखने वाली माला सिन्हा ने कभी फिल्मों में पार्श्व गायन तो नहीं किया पर स्टेज शो के दौरान उन्होंने कई बार अपनी कला को जनता के सामने रखा जिसे जनता ने काफी सराहा.


mala sinhaमाला सिन्हा (Mala Sinha) की गिनती भी बॉलीवुड की उन अभिनेत्रियों में होती है, जिन्होंने फिल्मों में लंबा सफर तय किया और अपनी अलग पहचान बनाई. वे बांग्ला फिल्मों से हिंदी फिल्मों में आई थीं. ‘बादशाह’ से हिंदी फिल्मों में प्रवेश करने वाली माला सिन्हा ने एक सौ से कुछ ज्यादा फिल्में कीं. जब माला सिन्हा हिंदी फिल्मों में काम करने मुंबई आईं, तो लोगों ने कहा था कि यह नेपाली नाक-नक्श वाली लड़की हिंदी फिल्मों में क्या चलेगी? लेकिन उन्हें जो सफलता मिली, उसने फब्तियां कसने वालों के मुंह बंद करा दिए.


Read: आमिर भी सचिन के संन्यास को भुनाने में लगे


माला सिन्हा (Mala Sinha) का बचपन

11 नवंबर, 1936 को जन्मी माला सिन्हा के पिता बंगाली और मां नेपाली थी. उनके बचपन का नाम “आल्डा” था. स्कूल में बच्चे उन्हें “डालडा” कहकर चिढ़ाते थे जिसकी वजह से उनकी मां ने उनका नाम बदलकर “माला” रख दिया.


कॅरियर की शुरुआत

माला सिन्हा (Mala Sinha) ने ऑल इंडिया रेडियो के कोलकाता केंद्र से गायिका के रूप में अपना कॅरियर शुरू किया और जल्दी ही बांग्ला फिल्मों के माध्यम से रुपहले पर्दे पर पहुंच गईं. उन्होंने बंगाली फिल्म “जय वैष्णो देवी” में बतौर बाल कलाकार काम किया. उनकी बांग्ला फिल्मों में “लौह कपाट” को अच्छी ख्याति मिली.


जब माला सिन्हा (Mala Sinha) हिंदी फिल्मा में काम करने मुंबई आईं तब रुपहले पर्दे पर नरगिस, मीना कुमारी, मधुबाला और नूतन जैसी प्रतिभाएं अपने जलवे बिखेर रही थीं. माला के लगभग साथ-साथ वैजयंती माला और वहीदा रहमान भी आ गईं. इन सबके बीच अपनी पहचान बनाना बेहद कठिन काम था. इसे माला का कमाल ही कहना होगा कि वे पूरी तरह से कामयाब रहीं.


Read: नाकाम ‘प्रधानमंत्री’ को बनाया ताकतवर


फिल्म “बादशाह” के जरिए माला सिन्हा (Mala Sinha) हिंदी फिल्म के दर्शकों के सामने आईं. शुरू में कई फिल्में फ्लॉप हुईं. फिल्मी पंडितों ने उनके भविष्य पर प्रश्नचिह्न लगाए. कुछ यह कहने में भी नहीं हिचकिचाए कि यह गोरखा जैसे चेहरे-मोहरे वाली युवती ग्लैमर की इस दुनिया में नहीं चल पाएगी. इन फब्तियों की परवाह न कर माला सिन्हा ने अपने परिश्रम, लगन और प्रतिभा के बल पर अपने लिए विशेष जगह बनाई .


1957 में आई प्यासा ने माला सिन्हा (Mala Sinha) की किस्मत बदल दी. इस फिल्म में उनकी अदाकारी को आज भी लोग याद करते हैं. इसके बाद तो जैसे समय ही बदल गया. फिल्म जहांआरा में माला सिन्हा ने शाहजहां की बेटी जहांआरा का किरदार खूबसूरती से निभाया. फिल्म मर्यादा में उन्होंने दोहरी भूमिका की थी.


60 के दशक में तो उन्होंने कई हिट फिल्में दीं. उनकी यादगार फिल्मों में प्यासा, फिर सुबह होगी, उजाला, धर्मपुत्र, अनपढ़, आंखें, गीत, गुमराह, गहरा दाग, जहांआरा, अपने हुए पराये, संजोग, नीला आकाश, नई रोशनी, मेरे हुजूर, देवर भाभी, हरियाली और रास्ता, हिमालय की गोद में, धूल का फूल, कर्मयोगी और जिंदगी उल्लेखनीय हैं.


गजब की क्षमता

दरअसल, माला सिन्हा में हर तरह की भूमिका निभाने की क्षमता थी. यही वजह है कि उस वक्त के हर डायरेक्टर ने उनके साथ काम किया. केदार शर्मा, बिमल राय, सोहराब मोदी, बी.आर. चोपड़ा, यश चोपड़ा, अरविंद सेन, रामानंद सागर, शक्ति सामंत, गुरुदत्त, विजय भट्ट, ऋषिकेश मुखर्जी, सुबोध मुखर्जी, सत्येन बोस ने माला को हीरोइन बनाया.


पारिवारिक भूमिकाओं में दक्ष

माला सिन्हा ने हर तरह की भूमिकाएं निभाईं, लेकिन ऐसी पारिवारिक फिल्में करने में वे बड़ी दक्ष थीं, जिन्हें देखकर महिलाएं आंसू बहाने लगती थीं. अभिनय की इसी खूबी ने उन्हें उन दक्षिण भारतीय निर्देशकों का प्रिय बना दिया, जो आंसू और कहकहों की कॉकटेल फैमिली ड्रामा में चित्रित करने में माहिर थे. इन दक्षिण भारतीय निर्देशकों में एस.एस. वासन (संजोग), बी.आर. पंथालु (दिल तेरा दीवाना), ए.भीम सिंह (पूजा के फूल), श्रीधर (नई रोशनी), ए.सुब्बाराव (सुनहरा संसार), के. विजयन (ये रिश्ता न टूटे) और ए.त्रिलोक चंद (बाबू) उल्लेखनीय हैं. सच तो यह है कि इन सभी ने माला की आंखें नम करने की क्षमता का भरपूर उपयोग किया. अपने जमाने के हर नामी हीरो के साथ माला सिन्हा ने नायिका की भूमिका निभाई. शायद ही कोई हीरो ऐसा रहा हो, जिसने उनके साथ फिल्म न की हो.


कॅरियर का अंत

माला सिन्हा की पहली फिल्म 1954 में आई थी और 1985 तक वह लगातार काम करती रहीं. 1985 में “दिल तुझको दिया” निपटाने के बाद माला को लगा कि बढ़ती उम्र और ग्लैमर के अभाव में उनका जमाना सिमट गया है. मां और दीदी जैसे कैरेक्टर रोल में वे आना नहीं चाहती थीं. इसलिए ऐसे प्रस्ताव न मानकर उन्होंने फिल्मों से छुट्टी ले ली. 1991 में राकेश रोशन उन्हें “खेल” में फिर से कैमरे के सामने लाने में सफल रहे. इसके बाद उन्होंने दो फिल्में “राधा का संगम” (1992) और “जिद” (1994) कीं, उसके बाद फिल्मों को अलविदा कह दिया.

उनकी कुछ खास फिल्में प्यासा, धूल का फूल, पतंगा, हरियाली और रास्ता, अनपढ़, गुमराह, बहूरानी, जहांआरा, नीला आकाश, हिमालय की गोद में, बहारें फिर भी आएंगी, मेरे हुजूर, संजोग, 36 घंटे आदि हैं.


माला सिन्हा का निजी जीवन

नेपाली मां और भारतीय पिता की बेटी माला की मुलाकात एक नेपाली युवक चिदंबर प्रसाद लोहानी से हुई. दोनों का परिचय मित्रता में बदला और माता-पिता का आशीर्वाद पाकर दोनों का विवाह 1968 की 16 मार्च को मुंबई में हो गया. आज उनकी एक बेटी हैं जिनका नाम प्रतिभा सिन्हा है और वह भी एक्टिंग से जुड़ी हैं.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग