blogid : 3738 postid : 3082

Navratri Special: जब कन्या ही नहीं होगी तो कन्या पूजन कैसा!

Posted On: 22 Oct, 2012 Others में

Special Daysव्रत-त्यौहार, सितारों के जन्म दिन, राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय महत्व के घोषित दिनों पर आधारित ब्लॉग

महत्वपूर्ण दिवस

1021 Posts

2135 Comments

नवरात्र पर्व (Navratri Festival) के आठवें और नौवें दिन कन्या पूजन का विधान होता है. भारत में जहां एक तरफ कन्या भ्रूण हत्या और महिलाओं से बलात्कार की घटनाएं अपने चरम पर हैं वहीं दूसरी ओर कन्याओं को पूजने का रिवाज आपको बहुत हद तक एक-दूसरे का विरोधाभास करते नजर आएगा. लेकिन भारत शायद इसी का नाम है जहां भक्ति और आस्था हर धर्म, मजहब और सामाजिक कारकों से ऊपर है. आज के इस अंक में हम जानेंगे कि दुर्गाष्टमी और नवमी के दिन कन्या पूजन क्यूं और कैसे किया जाता है?


Read: नवरात्र: नौ दिन ऐसे करें मां भगवती को प्रसन्न

देवी सर्वभू‍तेषु मां सिद्धिदात्री…


नवरात्र पर्व (Navratri Festival) : कन्या पूजन

नवरात्र पर्व (Navratri Festival) के दौरान कन्या पूजन का बडा महत्व है. नौ कन्याओं को नौ देवियों के प्रतिविंब के रूप में पूजने के बाद ही भक्त का नवरात्र व्रत पूरा होता है. अपने सामर्थ्य के अनुसार उन्हें भोग लगाकर दक्षिणा देने मात्र से ही मां दुर्गा प्रसन्न हो जाती हैं और भक्तों को उनका मनचाहा वरदान देती हैं.


kanyapujaकिस दिन करें कन्या पूजन

कुछ लोग नवमी के दिन भी कन्या पूजन करते हैं लेकिन अष्टमी के दिन कन्या पूजन करना श्रेष्ठ रहता है. कन्याओं की संख्या 9 हो तो अति उत्तम नहीं तो दो कन्याओं से भी काम चल सकता है.


कन्या पूजन विधि

सबसे पहले कन्याओं के दूध से पैर पूजने चाहिए. पैरों पर अक्षत, फूल और कुंकुम लगाना चाहिए. इसके बाद भगवती का ध्यान करते हुए सबको भोग अर्पित करना चाहिए अर्थात सबको खाने के लिए प्रसाद देना चाहिए. अधिकतर लोग इस दिन प्रसाद के रूप में हलवा-पूरी देते हैं. जब सभी कन्याएं खाना खा लें तो उन्हें दक्षिणा अर्थात उपहार स्वरूप कुछ देना चाहिए. फिर सभी के पैर को छूकर आशीर्वाद लेना चाहिए. इसके बाद इन्हें ससम्मान विदा करना चाहिए.


Read: भ्रूण हत्या का कलंक


नवरात्र पर्व (Navratri Festival) : कितनी हो कन्याओं की उम्र

ऐसा माना जाता है कि दो से दस वर्ष तक की कन्या देवी के शक्ति स्वरूप की प्रतीक होती हैं. कन्याओं की आयु 2 वर्ष से ऊपर तथा 10 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए. दो वर्ष की कन्या कुमारी , तीन वर्ष की कन्या त्रिमूर्ति , चार वर्ष की कन्या कल्याणी , पांच वर्ष की कन्या रोहिणी, छह वर्ष की कन्या कालिका , सात वर्ष की चंडिका , आठ वर्ष की कन्या शांभवी , नौ वर्ष की कन्या दुर्गा तथा दस वर्ष की कन्या सुभद्रा मानी जाती है. इनको नमस्कार करने के मंत्र निम्नलिखित हैं.

1. कौमाटर्यै नम:
2. त्रिमूर्त्यै नम:
3. कल्याण्यै नम:
4. रोहिर्ण्य नम:
5. कालिकायै नम:
6. चण्डिकार्य नम:
7. शम्भव्यै नम:
8. दुर्गायै नम:
9. सुभद्रायै नम:


आइए अब सिलसिलेवार तरीके से जानें कि इन देवियों का रूप और महत्व क्या है:


1.  हिंदू धर्म में दो वर्ष की कन्या को कुमारी कहा जाता है. ऐसी मान्यता है कि इसके पूजन से दुख और दरिद्रता समाप्त हो जाती है.

2.  तीन वर्ष की कन्या त्रिमूर्ति मानी जाती है. त्रिमूर्ति के पूजन से धन-धान्य का आगमन और संपूर्ण परिवार का कल्याण होता है.

3.  चार वर्ष की कन्या कल्याणी के नाम से संबोधित की जाती है. कल्याणी की पूजा से सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है.

4.  पांच वर्ष की कन्या रोहिणी कही जाती है. रोहिणी के पूजन से व्यक्ति रोग-मुक्त होता है.

5.  छ:वर्ष की कन्या कालिका की अर्चना से विद्या, विजय, राजयोग की प्राप्ति होती है.

6.  सात वर्ष की कन्या चण्डिका के पूजन से ऐश्वर्य मिलता है.

7.  आठ वर्ष की कन्या शाम्भवी की पूजा से वाद-विवाद में विजय होती है.

8.  नौ वर्ष की कन्या को दुर्गा कहा जाता है. किसी कठिन कार्य को सिद्धि करने तथा दुष्ट का दमन करने के उद्देश्य से दुर्गा की पूजा की जाती है.

9.  दस वर्ष की कन्या को सुभद्रा कहते हैं. इनकी पूजा से लोक-परलोक दोनों में सुख प्राप्त होता है.


कितना सार्थक है भारत में कन्या पूजन

नवरात्र पर्व (Navratri Festival) पर कन्या पूजन के लिए कन्याओं की 7, 9 या 11 की संख्या मन्नत के मुताबिक पूरी करने में ही पसीना आ जाता है. सीधी सी बात है जब तक समाज कन्या को इस संसार में आने ही नहीं देगा तो फिर पूजन करने के लिये वे कहां से मिलेंगी.


Read: शक्ति की उपासना का समय


जिस भारतवर्ष में कन्या को देवी के रूप में पूजा जाता है, वहां आज सर्वाधिक अपराध कन्याओं के प्रति ही हो रहे हैं. यूं तो जिस समाज में कन्याओं को संरक्षण, समुचित सम्मान और पुत्रों के बराबर स्थान नहीं हो उसे कन्या पूजन का कोई नैतिक अधिकार नहीं है. लेकिन यह हमारी पुरानी परंपरा है जिसे हम निभा रहे हैं और कुछ लोग शायद ढो रहे हैं. जब तक हम कन्याओं को यथार्थ में महाशक्ति, यानि देवी का प्रसाद नहीं मानेंगे, तब तक कन्या-पूजन नितान्त ढोंग ही रहेगा. सच तो यह है कि शास्त्रों में कन्या-पूजन का विधान समाज में उसकी महत्ता को स्थापित करने के लिये ही बनाया गया है.


उम्मीद है आस्था और हमारी परंपरा का नवरात्र पर्व समाज में कन्याओं की गिरती संख्या की तरफ भी लोगों का ध्यानाकर्षित करेगा और आने वाले समय में देश के अंदर कन्या भ्रूण हत्या जैसे मामलों में कमी आएगी और महिलाओं की सुरक्षा में इजाफा होगा.


Read: मां दुर्गा का चौथा रूप कूष्मांडा देवी


Tag: नवरात्रि पर्व 2011 नवरात्रि, नवरात्रि विशेष, नवरात्रि विशेष 2011, नौ दुर्गा, देवी उपासना, कन्या पूजन, कंजिका पूजा,महागौरी, Mahagauri Pujan Vidhi

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग