blogid : 3738 postid : 692877

सुभाष घई: ‘शोमैन’ का हिट फिल्मी शो

Posted On: 24 Jan, 2014 Bollywood में

Special Daysव्रत-त्यौहार, सितारों के जन्म दिन, राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय महत्व के घोषित दिनों पर आधारित ब्लॉग

महत्वपूर्ण दिवस

1021 Posts

2135 Comments

बॉलीवुड में शोमैन की चर्चा होती है तो नाम प्रसिद्ध अभिनेता राज कपूर का लिया जाता है, लेकिन कम ही लोगों को पता है कि हिंदी सिनेमा में एक और शोमैन है जो अपनी ही निर्देशित फिल्मों में एक छोटी भूमिका में दिखाई देता है. यहां बात हो रही है जाने माने निर्देशक सुभाष घई की.


सुभाष घई का जन्म 24 जनवरी, 1945 को महाराष्ट्र के नागपुर में एक डेंटिस्ट परिवार में हुआ. घई की शिक्षा दिल्ली से महज कुछ ही दूरी पर स्थित हरियाणा के रोहतक में हुई. रोहतक से स्नातक की डिग्री लेने के बाद घई 20-21 साल की उम्र में पुणे फिल्म इंस्टीट्यूट चले गए. वहां उन्होंने निर्देशन का काम सीखा. हालांकि शुरुआत में वह फिल्मों में एक्टिंग करने के लिए पुणे इंस्टीट्यूट आए थे. उस दौरान सुभाष घई कहानियां भी लिखते थे. कई बड़े निमाता-निर्देशक उनकी कहानियों को पसंद भी करते थे, तब उन्हें कहानियों की अच्छी कीमत भी मिलती थी.


subhash ghai 1सुभाष घई का कॅरियर

सुभाष घई ने अपने कॅरियर की शुरुआत अभिनेता के रूप में की. फिल्म ‘तकदीर’ और ‘आराधना’ में उनकी छोटी सी भूमिका है. बतौर निर्देशक उनकी पहली फिल्म ‘कालीचरण’ थी जिसे दर्शकों ने काफी पसंद किया.


हिंदी सिनेमा में 80 का दशक सुभाष घई का माना जाता है. इस दशक में उनकी अधिकतर फिल्में सुपरहिट रहीं. इनमें ‘विधाता’, ‘कर्मा’, ‘हीरो’, ‘मेरी जंग’ और ‘राम लखन’ शामिल थीं. इस दौरान घई ने दिलीप कुमार जैसे बड़े अभिनेता के साथ भी काम किया.


Read: History of Women Cricket


जैकी श्रॉफ और अनिल कपूर का कॅरियर संवारा

आज अनिल कपूर एक बड़े अभिनेता के तौर पर जाने जाते हैं इसके पीछे कहीं न कहीं सुभाष घई की भूमिका है. उन्होंने न केवल अनिल कपूर का बल्कि जैकी श्रॉफ का फिल्मी कॅरियर मजबूत किया. जैकी ने ‘हीरो’ (1983) तथा अनिल ने ‘मेरी जंग’ (1985) में उनके साथ काम किया. अनिल, जैकी और सुभाष ने ‘कर्मा’, ‘राम लखन’ और ‘त्रिमूर्ति’ में भी साथ काम किया है.

सुभाष घई ने 1997 में ‘परदेस’ और 1999 में ‘ताल’ का भी निर्देशन किया. दोनों ही फिल्में बेहद ही पसंद की गईं. फिल्म ‘परदेस’ में सुभाष घई ने ना सिर्फ महिमा चौधरी को बॉलिवुड में ब्रेक दिलवाया बल्कि उनक नाम रितु चौधरी से बदलकर महिमा चौधरी भी कर दिया. बतौर प्रोड्यूसर भी सुभाष घई ने ‘जॉगर्स पार्क’, ‘एतराज’, ‘इक़बाल’, ‘36 चाइना टाउन’, ‘शादी से पहले’, ‘अपना सपना मनी मनी’ और ‘गुड बॉय बैड बॉय’ जैसी फिल्में भी बनाई है.


‘एम’ का कमाल

बॉलीवुड के दूसरे शो मैन कहे जाने वाले निर्देशक सुभाष घई अपनी फिल्मों के लिए ऐसी अभिनेत्रियों का चुनाव करते हैं जिनका नाम ‘एम’ से शुरू होता है. फिल्म हीरो से मीनाक्षी शेषाद्री, राम लखन से माधुरी दीक्षित, सौदागर से मनीषा कोईराला और परदेश से महिमा चौधरी ने बॉलीवुड में ऐसा धमाल मचाया जो हर किसी के बस में नहीं होता. केवल महिमा चौधरी को छोड़कर तीनों ही अभिनेत्रियों ने बॉलीवुड में राज किया है. इन सब की सफलता के पीछे केवल सुभाष घई की मेहनत है.


सुभाष घई और रीना गोलन विवाद

सुभाष घई और रीना गोलन: न्यूयॉर्क में रहने वाली भारतीय मूल की रीना गोलन के अनुसार जब वह हिरोइन बनने का सपना लेकर भारत आईं तो उन्हें प्रसिद्ध निर्माता-निर्देशक सुभाष घई ने कास्टिंग काउच का ऑफर दिया था. रीना ने अपनी आत्मकथा ‘डियर मिस्टर बॉलीवुड: हाऊ आई फेल इन लव विथ इण्डिया, बॉलीवुड एण्ड शाहरुख खान‘ में यह खुलासा किया है कि सुभाष घई, अनूप जलोटा, और अनीस बज्मी जैसे बॉलिवुड की चर्चित शख्सियतों ने उन्हें काम दिलवाने के एवज में कास्टिंग काउच के लिए एप्रोच किया था.


Read: ठाकरे परिवार में संपत्ति और सत्ता की लड़ाई


घई का जमीन विवाद

साल 2000 में सुभाष घई को महाराष्ट्र की विलासराव देशमुख सरकार ने 20 एकड़ जमीन आवंटित की थी. कहा जाता है कि तात्कालीक मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख ने अपने अभिनेता बेटे रितेश देशमुख को फिल्म उद्योग में स्थापित करने की नियत से सुभाष घई को कम कीमत पर जमीन दी थी.

2012 में अदालत ने कुल 20 एकड़ जमीन में से 14.5 एकड़ जमीन को फौरन वापस करने के आदेश दिए थे जबकि बाकी साढ़े पांच एकड़ जमीन जिस पर इस समय फिल्म इंस्टीट्यूट बना हुआ है उसको जुलाई 2014 तक राज्य सरकार को वापस करने के लिए कहा था.


Read more:

कहां गई वह भोली सूरत और मनमोहक मुस्कान

माधुरी से इन्होंने भी प्यार किया था

Jackie Shroff Profile in Hindi


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग