blogid : 14778 postid : 779870

एक शिक्षक का पिता(शिक्षक दिवस पर)

Posted On: 2 Sep, 2014 Others में

CHINTAN JAROORI HAIजीवन का संगीत

deepak pande

174 Posts

948 Comments

दिसंबर का महीना शाम के छह बजे होंगे रामनरेश त्रिपाठी जी अपनी कुर्सी पर बैठे थे अचानक फ़ोन की घंटी घनघना उठी रामनरेश जी के फ़ोन उठाने पर एक नवयुवती की आवाज़ सुनाई दी क्या त्रिपाठी सर घर पे हैं रामनरेश जी बोले वो तो नहीं है मैं उसका पिता बोल रहा हूँ मैं अपने बेटे को आपका सन्देश दे दूंगा क्या कहना है उधर से आवाज़ आयी अंकल मैं रेनू बोल रही हूँ हमारी माँ को पापा अस्पताल ले गए थे और माँ का स्वर्गवास हो चूका है हम दो बहने घर में अकेली हैं यदि हो सके तो सर को भेज दो हमें बड़ा डर लग रहा है रामनरेश जी ने खुद को सँभालते हुए कहा बेटा तो ट्रेनिंग में दुसरे शहर गया है रेनू तुम घबराओ मत मैं खुद अपनी बहु के साथ तुम्हारे पास आ रहा हूँ
फ़ोन रखते ही रामनरेश जी ने घटना का विवरण देकर अपनी बहु से तैयार होकर चलने को कहा रस्ते भर रामनरेश जी उस दिन के बारे में सोचते रहे की जब उनके बेटे ने अच्छी नौकरियां ठुकराकर विद्यालय में अध्यापक बनने का निर्णय लिया था उनकी अपने बेटे से बहुत बहस हुई थी आखिर क्या रखा है मास्टर की नौकरी में न पैसा न शौहरत अब इज़्ज़त भी तो नहीं रही इस नौकरी में यह रेनू करीब ६ वर्ष पहले १२ कक्षा में उनके बेटे से गणित पड़ने आया करती थी तब लोग उनके घर में बेटे के अध्यापक होने पर सहानुभूति जताने आते थे वह भी अपने आप को एक शिक्षक के पिता के रूप में पहचाने जाने से कतराते थे
आज वो सोच रहे थे की क्या आज भी समाज में एक अध्यापक पर इतना विश्वास कायम है उन्हें आज अपने बेटे पर नाज़ था आज उनके बेटे ने उन्हें वो सुख दिया था जो वो बयान नहीं कर सकते थे आज वो गर्व से इस समाज को चिल्ला चिल्ला कर कहना चाहते थे की हां मैं एक शिक्षक का पिता हूँ और फख्र है मुझे एक शिक्षक का पिता होने पर जिसने आज मुझे वो सब दिया है जो शायद मेरे अन्य अमीर बेटे जिंदगी भर भी नहीं दे सकते

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग