blogid : 14778 postid : 750083

कर्मों का फल (लघु कथा)

Posted On: 4 Jun, 2014 Others में

CHINTAN JAROORI HAIजीवन का संगीत

deepak pande

174 Posts

948 Comments

सड़क के कोने में चीथड़ों से लिपटी वह वृद्धा दो दिनों से उसे अन्न का एक भी दाना नसीब नहीं हुआ यदा कदा उसे देख कोई रहगीर सहनुभूतिवश कुछ सिक्के उसकी ओर दाल जाता है नियती की विषम लेखनी ने उसकी किस्मत की किताब में आखिर ये कौन सा अध्याय लिख डाला जो आज वो इस कदर दाने दाने को मोहताज है यही सोचकर वह अतीत की स्मृतियों में खो जाती है
जब वह शादी होकर इस शहर में आयी थी उसके पति रामनरेश जी पी डब्लू डी में सीनियर इंजीनियर थे पर यह क्या ये व्यक्ति तो निपट ईमानदार निकला कोई ऐशो आराम नहीं हालांकि शहर में वो एक इज्जतदार व्यक्ति के रूप में जाने जाते थे परन्तु इज्जत से गहने नहीं खरीदे जाते यह वह भली भाँती जानती थी उसे अपनी माँ की सीख आज भी याद थी “बेटी त्रिया हठ संसार में ऐसी चीज है जिसके आगे बड़े से बड़े महामानव भी झुक जाते हैं ” उसने माँ की सीख के अनुसार ऐसा ही किया आखिर पति को झुककर अपने उसूलों को तोडना पड़ा कुछ ही सालों में उनकी गिनती शहर के नामचीन रईस लोगों में होने लगी इसी बीच उन्हें एक पुत्री और पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई शादी की बीसवी सालगिरह में रामनरेश जी चल बसे पुत्र को अपने पिता के ही कार्यालय में नौकरी मिली परन्तु काली कमाई की शौहरत उसे इस कदर बिगाड़ चुकी थी की छोटी सी उम्र में वह मदिरा के सेवन का आदि हो चुका था दामाद इनकम टैक्स में कमिसनर था
वह याद करती है जब बेटी पहली बार मायके आयी थी और उसे अपने सास ,ससुर के साथ रहने को मजबूर होने की समस्या से अवगत कराया था समाधान हेतु उसने बेटी को वही त्रिया हठ वाली सीख दी और कहा दुनिया में पैसा ही सब कुछ है रिश्ते ,माँ,सास ससुर कुछ भी नहीं फलतः बेटी की समस्या का समाधान हुआ समय बदला बेटे का अधिक मदिरापान की वजह से देहांत हो गया उसकी वसीयत के अनुसार उसकी साड़ी जमीन जायदाद उसकी बहिन के नाम हुई बेटी आयी सारी जायदाद लेकर चली गयी और माँ सड़क पर आ गयी उसकी हवेली पर एक बेटी ने एक पाठशाला खोल दिया गया जिसके बाहर आज वह सोने को मजबूर थी
मगर फिर भी भूखे होने पर भी उसकी आँखों में पश्चाताप से भरी अजब संतुष्टी थी बेटी ने आखिर उसके साथ भी वही तो किया जो उसकी सीख के तहत उसकी बेटी ने अपनी सास ,ससुर के साथ किया था यह सीख उसने स्वयं ही तो अपनी बेटी को दी थी आज वो अपने ही कर्मों का फल तो पा रही थी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग