blogid : 14778 postid : 1350446

ढोंगी बाबा कारण और निवारण

Posted On: 2 Sep, 2017 Others में

CHINTAN JAROORI HAIजीवन का संगीत

deepak pande

176 Posts

948 Comments

पहले आशाराम फिर रामपाल और अब राम रहीम आखिर समाज में ऐसे ढोंगी बाबा पनपते ही क्यूँ हैं सर्वप्रथम तो मैं ये कहना चाहूंगा कि अपने आप को ईश्वर कहने वाले इन बाबाओं का धर्म या ईश्वर से कोई लेना देना नहीं है यह तो महज़ दुकाने हैं जहां लोगों की समस्याओं का निवारण धन लेकर किया जाता है आखिर इतनी संख्यां में भक्त कहाँ से आते हैं दरअसल इन समस्याओं की जड़ ही लालच से शुरू होती है हमारे देश की आधी से ज्यादा जनता आलस्य और लालच से ग्रस्त है जो कि बिना म्हणत के किसी चमत्कार के द्वारा ज्यादा से ज्यादा पाना चाहती है और इस लालच में बाबाओं के चक्कर काटती है ज्ञातत्व रहे इस जनता का धर्म या प्रभु से कोई लेना देना नहीं है अमीर जनता अपने काले धन को सफ़ेद करने के लालच में इन धर्म के ठेकेदारों से जुड़ती है और अपना उल्लू सीधा करने के एवज़ में लाखों रुपये चंदा देती है गरीब जनता ज्यादा कमाने के लालच में इन ढेकेदारों द्वारा धर्म की आड़ में चलाये जाने वाले गैर कानूनी धंधों में जुड़ जाती है जिसमे इन्हे काम समय में ज्यादा धन की प्राप्ति होती है इन संस्थानों में जुड़ने वाला एक वर्ग वो भी है जो नए जमाने की दौड़ में अपनों और अपने समाज से तो काट गया है मगर अपनी एक पहचान बनाने के लिए इन संगठनों से जुड़ जाता है
मूल रूप से इन संगठनों का धर्म से कोई सम्बन्ध नहीं है परन्तु यह देखा गया है कि इनमे महिलाओं की संख्यां भी बहुत ज्यादा है आखिर एक मध्यवर्गीय महिला अपना परिवार छोड़कर इसमें कैसे समय दे सकती है यह पैसे का लालच ही है जो इनको स्वयं को संगठन और बाबा को समर्पण को प्रेरित करता है वर्ना ईश्वर के अतिरिक्त किसी गैर मर्द को को देह के समर्पण का औचित्य ही नहीं है यह तो सीधे सीधे देह व्यापार ही है जिसमे या तो ये महिलाएं स्वयं जाती हैं या इन्हें धन के लालच में इनके परिवार के सदस्यों द्वारा धकेल दिया जाता है
जब तक हमारी जनता में ही आलस्य त्यागकर किसी चमत्कार की आस छोड़ कर्म कर कमाने की कामना नहीं होगी इन बाबाओं की दुकाने यूं ही सजती रहेंगी जनता को स्वयं जाग्रत होना होगा सुख और दुःख इस संसार में एक ही सिक्के के दो पहलु हैं दुःख से बचने के लिए कोई लघु रास्ता अपनाना ठीक नहीं है समर्पण केवल उस खुदा को किया जाता है खुदा के बन्दों को खुदा बनाकर कैसा समर्पण I

दीपक पांडेय
जवाहर नवोदय विद्यालय
नैनीताल
263135

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग