blogid : 14778 postid : 761005

पावन नदी थी उस युग में इस युग में नाली हो गयी (गंगा माँ)

Posted On: 3 Jul, 2014 Others में

CHINTAN JAROORI HAIजीवन का संगीत

deepak pande

174 Posts

948 Comments

सृजित हुई विष्णु के अंगुष्ठ से ब्रह्म कमंडल में विचरण हुआ
तप से भगीरथ के प्रसन्न हो मृत्युलोक में आगमन हुआ
आयी थी प्रचंड उद्वेग से तो धरती में भी कम्पन हुआ
जटा में समाई शिव के जब नीलकंठ का वंदन हुआ
लट खोली तब महेश ने धरा पर मेरा अवतरण हुआ
पावन नदी थी उस युग में इस युग में नाली हो गयी
अपने ही कपूतों के कपट से मैं गंगा काली हो गयी
…………………………………………………………….
गोमुख के हिमनद से निकल स्वच्छंद मैं बढ़ती चली गयी
गुजरी मैं जिस स्थान से मानव सभ्यता बसती चली गयी
तुमने दर्जा दिया माँ का मुझे मेरा हर वक़्त नमन किया
ईश्वर की अर्चना में जल से मेरे ही तुमने आचमन किया
पानी से मेरे सींच कर अपने खेतों का सृजन वहीं किया
सभी गन्दगी और मल मूत्र का भी विसर्जन वहीं किया
आयी थी फिर मैदान में उद्योगो का हुआ फिर विस्तार
ज़हरीले रसायनों का मुझमे प्रचंड तब किया गया प्रहार
मेरी सहयोगी नदियां भी मुझसी गन्दगी से भरपूर थी
मुझमे समाने के लिए वो भी किस कदर मजबूर थी
सभी प्रदूषणों से मिल मैं विष की प्याली हो गयी
अपने ही कपूतों के कपट से मैं गंगा काली हो गयी
………………………………………………………
आस्था के नाम पर मेरी सब आरती उतारते
फूल पत्ती,गन्दगी,पॉलिथीन सब मुझपे वारते
जो जीवित हैं वो जल से मेरे जीवन पाते हैं
जो मृत हुए जीव जंतु मुझमे ही समाते हैं
जनसँख्या थी जब कम ये सब झेलती रही
अब मेरी सहन शक्ति की भी सीमा नहीं रही
मेरे ही जल को इस तरह जो प्रदूषित करोगे
उसी जल के सेवन से अपने तन रोगों से भरोगे
सम्भलों अब खुद भी और मुझे भी सम्भालो
अब और गन्दगी को न मेरे जिस्म पे डालो
फिर न कहना क्यूँ गंगा कोप में मतवाली हो गयी
अपने ही कपूतों के कपट से मैं गंगा काली हो गयी
………………………………………………………….
सहनशक्ति का मेरे अब तुम लो न इम्तिहान
मिल बैठ कर समस्या का निकालो कुछ निदान
मल और दूषित जल के शुद्धि का चला अभियान
मेरी समस्या को सुलझा करो मेरा भी कल्याण
जब मैं ही मिट गयी तो फिर कैसे निभाओगे
आने वाली नस्लों को फिर क्या पिलाओगे
अनवरत मुझको बहने दो न उद्वेग को रोको
मुझमे ही रहने दो मुझे न मेरे संवेग को रोको
समाहित न करो कुछ मुझमे यही मेरी आरती
आज तुमसे निवेदन करती ये गंगा माँ भारती
दुनिया ये कहने लगे शुद्ध जल वाली हो गयी
सारे जहां की नदियों से निराली हो गयी

दीपक पाण्डेय
जवाहर नवोदय विद्यालय
नैनीताल

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग