blogid : 14778 postid : 705600

पीड़ा गर घर में मेरे मेहमान न होती

Posted On: 19 Feb, 2014 Others में

CHINTAN JAROORI HAIजीवन का संगीत

deepak pande

174 Posts

948 Comments

सुख का तनिक भी मुझे
अहसास न होता
पीड़ा गर घर में मेरे
मेहमान न होती

वो परिंदा कैसे पेड़ पर
बना पता घरौंदा
आसमानो की अगर
उड़ान न होती

आस्था और श्रद्धा ही
समाज की बुनियाद हैं
हर कोई मूरत यूँही
भगवान न होती

होता न सवेरा
ये मधुर
शाम न होती
ये रात अगर अंधेरों
पे मेहरबान न होती

न आती सर्द हवा
और न होता ये पतझर
बागान को बसंत की
पहचान न होती

बागबान के ही हाथों
मसले जाने से
बच ही जाती वो
जोश में गर इस कदर
नादान न होती

आज भी देवी कि तरह
पूजी जाती हर नारी
समझी जाती महज
जिस्म की दुकान न होती

काटकर फनकार की उँगलियाँ
कर दी यहीं दफ़न
वर्ना ये ईमारत भी यूं
आलीशान न होती

सो जाता वो भी
बदहवास
चादर को तानकर
बेटी जो उसके घर में भी
जवान न होती

धर्म की ही आड़ में
जो न होता कत्लेआम
गाँव की ये गलियां
यूं वीरान न होती

दीपक पाण्डेय
नैनीताल

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग