blogid : 14778 postid : 945773

भू माफिया ( कविता)

Posted On: 15 Jul, 2015 Others में

CHINTAN JAROORI HAIजीवन का संगीत

deepak pande

176 Posts

948 Comments

जेठ की तपती धरा
चहुंओर हाहाकार था
व्याकुल जीव जंतु सभी
मानसून का इंतज़ार था
…………………………
मेघों की तब एक छटा
आकाश में छाने लगी
पक्षियों के आकुल कंठ में
एक आस दिखलाने लगी
………………………….
आया समय मधुमास का
प्रजनन सृजन का काल था
नव आगंतुकों के आगमन पर
एक अदद घरोंदे का सवाल था
………………………………….
मेरे आँगन भी आया एक जोड़ा
खग का बहुत क्रंदन किये
श्याम वर्ण पंखों का कुछ
बीचोंबीच नीली छटा लिए
……………………………….
गीली माटी चोंच में ले
दीवार पर चिपकाने लगे
एक करे आराम तो एक
चलता है कुछ माटी लिए
……………………………
दिख रहा था दीवार पर
आगाज़ नए संसार का
मिटटी का वो एक घरोंदा
सुराही के से आकार का
…………………………
यह क्या गौरैय्या का एक
जोड़ा भी उधर आने लगा
बने बनाये घोँसले पे उस
हक़ अपना जतलाने लगा
…………………………..
हुआ संघर्ष पखेरुओं में
अंत में यही परिणाम था
ताकतवर गौरैया का जोड़ा
अब घर उसी के नाम था
………………………………
इंसानो में अब तक सुना
भू माफिआओं का जाल है
पक्षियों में भी होने लगा ये
कलयुग की ही कुछ चाल है
……………………………..
आ रहा क्या घोर कलयुग
क्या बह रही आबो हवा
पशु पक्षियों में भी असर
कुछ हाय अब दिखने लगा

दीपक पाण्डेय
नैनीताल

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग