blogid : 14778 postid : 1319820

मर्दानी (कांटेस्ट)

Posted On: 19 Mar, 2017 Others में

CHINTAN JAROORI HAIजीवन का संगीत

deepak pande

176 Posts

948 Comments

वह दुबली सी छरहरे बदन की अनजान लड़की आज विद्यालय के प्रांगण में क्या कर रही है चेहरे पर थकान साफ़ झलक रही थी मास्टर रामस्वरूप जी यह देखकर हैरान थे पास जाकर पूछने पर पता चला कि वह हरियाणा से रातभर का सफर तय कर यहाँ संविदा पर अध्यापक पद के लिए नियुक्त की गयी है
तो यह थी मास्टर जी की कविता मैडम से पहली मुलाकात

अचानक एक दिन छात्र कुछ शोर करने लगे वे इस बात पर अड़े थे कि रात भर उन्हें टी वी देखने की अनुमति मिलनी चाहिए परंतु आवासीय विद्यालय के नियमानुसार केवल ९ बजे तक की अनुमति थी छात्र अपनी बात पर अडिग थे मगर रामस्वरूप जी ने इनकार करते हुए सभी छात्रों को अनुशाशन की दुहाई देते हुए अपने अपने छात्रावास जाने को कहा I
चूँकी जिले में चुनाव का समय था और मास्टर जी की पीठासीन अधिकारी की ड्यूटी लगी थी अतः रामस्वरूप जी अगले दिन चुनाव ड्यूटी के लिए विदा हो गए रात के ग्यारह बजे थे कविता अपने कमरे में सोने की कोशिश कर रही थी कि अचानक उसे लड़कों के छात्रावास की ओर से कुछ शोर सुनाई दिया पास जाने पर पता चला रात में टी वी देखने की अनुमति न मिलने के विरोध में सभी छात्र डंडे हाथ में लेकर मास्टर रामस्वरूप के निवास की ओर जा रहे थे चूँकी कविता ये जानती थी कि मास्टर जी आज घर पर नहीं हैं उसके मन में रामस्वरूप जी के परिवार की सुरक्षा के प्रति विचार आने लगा उसने तुरंत प्रधानाचार्य को दूरभाष से सूचित किया I प्रधानाचार्य ने कहा वो यह सब जानते हैं और पुलिस को सूचना दे चुके हैं विद्यालय की अवस्थिति दूर होने की वजह से १ या २ घंटे तक पुलिस आ जाएगी साथ ही कविता को भी ये हिदायत दे डाली कि वह भी बाहर न निकलें I

अब कविता अपना मन पक्का कर चुकी थी कि वह जरूर जाएगी दरवाजे के पीछे जो उसने एक लोहे की छड़ रखी थी अपने साथ लेकर वह पीछे के रास्ते रामस्वरूप जी के घर के बाहर खड़ी थी चूंकि घर की ओर आने के रास्ते में सीढ़ियां बहुत तंग थी जिसमे से एक बार में केवल दो ही जन जा सकते थे कविता ने इसी जगह पर अपना मोर्चा संभाल लिया और वो लोहे की छड़ पीछे छिपा दी अब वो लगभग ४० छात्र भी डंडे लेकर आ चुके थे परंतु कविता ने उन्हें रोक दिया छात्र कहने लगे ” मैडम आप हट जाओ हम रामस्वरूप जी का बदला उनके परिवार से लेंगे ” कविता ने उन्हें समझाया कि” जो तुम करने जा रहे हो असल में वह किसी और की साज़िश है जिसने भी तुम्हे मास्टरजी के खिलाफ भड़काया है वह तुम्हारे द्वारा अपना स्वार्थ सिद्ध करना चाहता है तुम कानून अपने हाथ में न लो ” यह सुनकर अधिकतर लड़के वापस चले गए परंतु लगभग १० लड़के अब भी अपनी बात पर अड़े थे समय बीतता जा रहा था एक लड़का बोला “मैडम आप अकेली हमें नहीं रोक पाएंगी ” इस पर कविता ने अपनी छिपाई हुई लोहे की छड़ लेकर कहा” रामस्वरूप जी के परिवार की रक्षा के लिए मैं किसी भी हद तक जा सकती हूँ इन सीढ़ियों से एक बार में केवल दो जन आ सकते हैं तुम लोगों में जिन दो को अपनी जान प्यारी न हो वो आगे बढ़ सकता है करीब १५ मिनट तक सन्नाटा छाया रहा कोई भी आगे बढ़ने की हिम्मत नहीं कर पाया तब तक पुलिस आ चुकी थी और कविता रामस्वरूप जी के परिवार की रक्षा करने में सफल हो चुकी थी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग