blogid : 14778 postid : 1127146

संकल्प नए वर्ष का

Posted On: 31 Dec, 2015 Others में

CHINTAN JAROORI HAIजीवन का संगीत

deepak pande

176 Posts

948 Comments

आज अपने नए वर्ष के संकल्प के विषय में बताना चाहूँगा जब मैं अपने पुराने विद्यालय हिन्दू नेशनल इण्टर कॉलेज देहरादून को देखने गया तो पता चला की जिस स्कूल में कभी १५०० के लगभग छात्र पढ़ते थे अब वह संख्या मात्र सैकड़ा में रह गयी है शायद यही स्थिति लगभग सभी सरकारी विद्यालयों की होती जा रही है मैं सिस्टम को दोष नहीं देना चाहता आखिर हमने भी अपने विद्यालय को क्या दिया ये सरकारी विद्यालय निम्न और मध्यम वर्गीय छात्रों का एक मात्र सहारा होते हैं हमारी ही भाँती जो छात्र अपनी फीस भी जमा नहीं कर सकते थे ये विद्यालय उस वर्ग का एकमात्र सहारा होते हैं यदि ये विद्यालय ख़त्म हो गए यह निम्न और मध्यम वर्ग शिक्षा से वंचित रह जायेगा और देश की मुख्या धारा से नहीं जुड़ पायेगा इस विद्यालय से पड़कर छात्र विविध बड़े बड़े पदों पर कार्यरत हैं
आज हमने इन विद्यालयों से बहुत कुछ पाया है परन्तु क्या कभी सोचा है की हमने कभी इसे वापस कुछ दिया भी है आज यह सरकारी विद्यालय न होता तो धन के अभाव में शायद हम अनपढ़ ही रह गए होते अब समय आ गया है की उसी निम्न वर्ग की खातिर जिससे हम खुद आये हैं इन मरते हुए विद्यालयों को फिर से जिलाना होगा हमें इनको बचाने में समूचा योगदान देना होगा ये जरूरी नहीं ये योगदान धन के द्वारा ही हो कुछ लोग तो अब अपने पैतृक शहरों में भी नहीं हैं तो जो लोग उसी शहर में हैं वो इन विद्यालयों को गोद लें वहाँ कुछ समय पढ़ाने जाकर अपना योगदान भी दिया जा सकता है जो लोग दुसरे शहरों में हैं वे अपने उसी शहर के मरते सरकारी विद्यालयों को बचाने में योगदान दें अन्यथा हमारा एक निम्न और निम्न मध्यम वर्ग शिक्षा से वंचित रह जायेगा हमें स्वयं जाकर उन विद्यालयों में पढ़ाकर या इंफ्रास्ट्रक्चर में योगदान कर उन्हें अंग्रेजी माध्यम के प्राइवेट विद्यालयों के समकक्ष लाना होगा
जीवन में अब तक बहुत कुछ पाया ही है इस समाज से इस वर्ष संकल्प लें की जिस तरह हमने समाज से पाया है उसे लौटने के समय आ गया है और कृपया अपने बचपन के विद्यालय को मरने न दें जिसमे पड़कर हम इतने सक्षम बन गए वह सिलसला जारी रहे और कोई वर्ग शिक्षा से वंचित न रहे तो कम से कम एक विद्यालय को बचाने की इस वर्ष कोशिश जरूर करनी है यही इस वर्ष का संकल्प है
इसी विषय पर अपनी कविता के साथ

हंसना सिखाया जिसने वही बिलख रहा
चलना सिखाया जिसने वही खिसक रहा
इस वर्ष में एक बार उस भूमी पे जाना है
बचपन के विद्यालय को फिर से जिलाना है
……………………………………

जीना सिखाया जिसने अंतिम सांस गिन रहा
संघर्ष सिखाया जिसने वो धराशायी पड़ रहा
जिसमे खुद कभी पढ़े आज उसमें पढ़ाना है
बचपन के विद्यालय को फिर से जिलाना है
……………………………………

कमाया सिखाया जिसने वो बदहाल हो गया
रोज़गार दिलाया जिसने वो फटेहाल हो गया
उस जर्जर हुई इमारत को फिर से उठाना है
बचपन के विद्यालय को फिर से जिलाना है
……………………………………

बरसों से ज्ञान के क़र्ज़ का बोझ है हम पर
नहीं आ सके मिलने यही दोष है हम पर
इस वर्ष बस एक बार तुझसे मिलने आना है
बचपन के विद्यालय को फिर से जिलाना है
……………………………………

जिसने ज्ञान का हमें प्रथम सबक पढ़ाया है
बचपन सारा जिसके आँगन में बिताया है
फिर से उस आँगन में अब समय बिताना है
बचपन के विद्यालय को फिर से जिलाना है
……………………………………

अब और न विकास की अंधी दौड़ को खींचो
जिस वृक्ष से जुड़े थे उसकी जड को भी सींचो
जहां से भी हो जैसे भी हो इसकी मदद करो
इस ढलते हुए वृक्ष को अब फिर से खड़ा करो
शिक्षा के इस अटूट महल को फिर से सजाना है
बचपन के विद्यालय को फिर से जिलाना है

दीपक पाण्डेय
नैनीताल

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग