blogid : 4181 postid : 173

इंतज़ार की प्यास है"valentine contest"

Posted On: 11 Feb, 2011 Others में

अंधेरगर्दीआम आदमी का दर्द ......

दीपक पाण्डेय

26 Posts

322 Comments

मेरी बहुत पुरानी तुकबंदी पेश है, मुलाहिजा फरमाएं…………

कहीं चाँद राहों में खो गया ,
कहीं चांदनी भी भटक गयी .

में चिराग हूँ वो भी बुझा हुआ ,
मेरी रात कैसे चमक गयी.

मेरी दास्तान का वजूद था ,
तेरी नर्म पलको की छांव में .


कभी हम मिले तो भी क्या मिला ,
वोही दूरियां …. … वोही फासले.

ना कभी हमारे क़दम बढे ,
ना तुम्हारी झिझक गयी.

तुझे भूल जाने की कोशिशें,
कभी कामयाब ना हो सकी .

तेरी याद शक -ए -गुलाब है ,
जो हवा चली तो लचक गयी .

तेरे हाथ से मेरे होंठों तक ,
वोही इंतज़ार की प्यास है ……… .

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 3.71 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग