blogid : 4181 postid : 23

तारीख पे तारीख :तारीख पे तारीख :

Posted On: 13 Jan, 2011 Others में

अंधेरगर्दीआम आदमी का दर्द ......

दीपक पाण्डेय

26 Posts

322 Comments

tarikh pe
tarikh pe

ये है एक पजाब के पुत्तर सन्नी देवल जिन्होंने दामिनी में ये गुहार लगाई के “तारीख पे तारीख मिलती रही जज साहब मगर इन्साफ नहीं मिला”.

अब देखिये दुसरे पंजाबी पुत्तर को जो देश के आका है :
manmohan_singh

आज जनता इस पंजाबी पुत्तर से पूछ रही है आखिर कब मिलेगा इन्साफ . कब हम महंगाई डायन के चुंगल से निकालेंगे . और ये सरदार देता है तारीख पे तारीख .

सिर्फ यही क्यों सरकार का हर मंत्री अपने हिसाब से सिर्फ और सिर्फ दे रहे है
तारीख पे तारीख . आखिर उन्हें कौन समझाय की तारीख और आश्वाशन से पेट नहीं भरता.

जब से ये कांग्रेस की सरकार सत्ता में आई है वह महंगाई रोकने के ही वादे किये जा रही है
पर महंगाई है की रुकने का नाम ही नहीं ले रही है . इसने कहा की dec तक महंगाई काबू में आ जाएगी . dec का हाल सबने देख लिया . अब उन्होंने नई तारीख दी है.

अब ये है नए मसीहा हमारे कृषि मंत्री
Sharad_Pawar_300

इनसे कोइ पूछे की कीमते कब काबू में आयेगी तो कह देंगे की मै कोई जादूगर थोड़ी हु.
हाँ भाई हमने आपको इसलिए थोड़ी बैठाया है . आप तो बस ipl का काम काज देखो . और अपने बेटी दामाद को अमीर बनाओ . वैसे भी आपको नोट गिनने से फुर्सत रहेगी तब तो .
और लवासा में कितना अच्छा स्वर्ग बना रहे है . साधुवाद . हम आम जन मरे थोड़ी न जा रहे है .

ये है हमारे बबुआ युवराज
Rahul-Gandhi103

इनका कहना तो लाजवाब है की महंगाई गठबंधन सरकार की मजबुरिया है . अगर अकेली कांग्रेस की सरकार होती तो महंगाई नहीं होती .
खैर आप तो स्वप्न देखो इसका .

अब जनता ढूंढ़ रही है वो तारीख जब इनको असली काम याद दिला सके .
कहते है ना: every dog has his day.

चित्र : google images से साभार

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (16 votes, average: 4.13 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग