blogid : 7604 postid : 321

बगावत

Posted On: 7 Apr, 2013 Others में

samajik krantiJust another weblog

dineshaastik

69 Posts

1962 Comments

खिड़कियों से देख लो, नेताओं थोड़ा झाँककर,
आ गई जनता बगवत के लिये मैदान में।
तुम अगर चेते न अब, जनता की तुमने न सुनी,
भीड़ जायेगी बदल यह, एक दिन तूफान में।
न सिसायत यह रहेगी, न रहेंगी कुर्सियाँ,
सोई थी जनता जगाया, आम इक इंसान ने। (अरविन्द केजरीवाल)
राज्य का सूरज नहीं था डूबता जिसका कभी,
गोरो की सत्ता गई थी, तुम हो किस अभिमान में।
तुम समझते पार्टी यह, सिमटी है कुछ लोगो तक,
भीड़ है कितनी अधिक, अरविन्द के आवाहन में।
तुम समझते हो मजा सत्ता में है सबसे अधिक,
हम समझते हैं मजा बस देश पर कुर्बान में।।
  • खिड़कियों से देख लो, नेताओं थोड़ा झाँककर,
  • आ गई जनता बगवत के लिये मैदान में।
  • तुम अगर चेते न अब, न ये जनता की  सुनी,
  • भीड़ जायेगी बदल यह, एक दिन तूफान में।
  • न सिसायत यह रहेगी, न रहेंगी कुर्सियाँ,
  • सोई थी जनता जगाया, आम इक इंसान ने। (अरविन्द केजरीवाल)
  • राज्य का सूरज नहीं था डूबता जिसका कभी,
  • गोरो की सत्ता गई थी, तुम हो किस अभिमान में।
  • तुम समझते पार्टी यह, सिमटी है कुछ लोगो तक,
  • भीड़ है कितनी अधिक, अरविन्द के आवाहन में।
  • तुम समझते हो मजा सत्ता में है सबसे अधिक,
  • हम समझते हैं मजा बस देश पर कुर्बान में।।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग