blogid : 9761 postid : 3

क्यूँ तडपता है, रोता है, क्यों पछताता है....

Posted On: 5 Mar, 2012 Others में

कविताएक सार सच्चाई का...

Dinoo

6 Posts

4 Comments

क्यूँ तडपता है, रोता है, क्यों पछताता है,

मत रो मेरे दिल, क्यों तू खून के आंसू बहता है..

दस्तूर है दुनिया का ये बेवफाई का चलन है,

जब दिल भर जाता है तो हर कोई दूर चला जाता है..

मुझे मालूम है के तुझे मोहब्बत है उससे बहुत,

मगर उस बेवफा को तेरा दर्द नजर नहीं आता है..

सुना है, उसे तो हासिल है हुनर दिल तोड़ने में,

शायद उस शख्स को इसी काम में मजा आता है…..

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग