blogid : 3085 postid : 462

दंश

Posted On: 29 Jun, 2012 Others में

पहचानखुद से, जिंदगी से और खुशियों से

div81

56 Posts

1643 Comments

572d0a9ae718c3763b8ba1d97486be59_full

मैं जब गुजरती हूँ
इन परिचित राहों से
मिलते है कई चेहरे
पहचाने, अनजाने से
जिस्म को चीरती नजर
अश्लील फब्तियां, गंदे इशारे से
हो जाती हूँ मैं असहज
ढूंढ़ती हूँ मैं राह
इन सब से बच जाने कि
कभी मन होता है
हिम्मत करूँ आगे बढूँ
सामना करूँ इन ना मर्दों का
फिर चुप हो जाती हूँ
ये सोच कर कल ही तो
इक लड़की खबर बन गयी थी
सभी चैनल और अख़बार में
छप वो गयी थी
किया था हौसला उसने
लिया था फैसला उसने
ऐसे ना मर्दों को सबक सिखाएगी
चुप न बैठेगी वो ललकारेगी
बीच बाजार हुआ तमाशा खूब था
जड़ दिया तमाचा एक जोर का
बात बड़ी, भीड़ बड़ी
तमाशबीन उस भीड़ मे
असली चेहरों कि भी
पहचान खूब हुई
लड़की का हौसला
उन लड़कों को ना हजम हुआ
अगले ही दिन उस लड़की कि
अस्मिता को तार- तार कर गए
बदले की आग मे, तेजाब से
उसका चेहरा भी बेकार कर गए
परछाईं भी छुए तो सहम वो जाती थी
अपना चेहरा देख कर डर वो जाती थी
इसी डर और ख़ौफ़ में
वो फैसला कुछ कर गयी
अपने परिवार को
रोता बिलखता वो छोड़ गयी
जिस दामन से अपना रूप सजाती थी
अपने गले में उसी से
फाँसी का फंदा लगा गयी
इस लिए चुप मैं कर जाती हूँ
रोज नया जहर का घूंट मैं पी जाती हूँ

____________________________________________________________________________________________________

बदकिस्मत हैं हमारा  समाज जहां बलात्कार होता है

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (10 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग