blogid : 16095 postid : 791829

त्रिपदा अगीत-- डा श्याम गुप्त ...

Posted On: 3 Oct, 2014 Others में

drshyam jagaran blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

drshyamgupta

125 Posts

230 Comments

मेरे द्वारा प्रणीत….त्रिपदा अगीत–१६-१६ मात्राओं के तीन पदों वाला अतुकान्त गीत

है जो अगीत कविता का एक छंद है—

१..

अंधेरों की परवाह कोई,
न करे, दीप जलाता जाए;
राह भूले को जो दिखाए |

२.

सिद्धि प्रसिद्धि सफलताएं हैं,
जीवन में लाती हैं खुशियाँ;
पर सच्चा सुख यही नहीं है|

३.

चमचों के मजे देख हमने ,
आस्था को किनारे रखदिया ;
दिया क्यों जलाएं हमीं भला|

४.

जग में खुशियाँ उनसे ही हैं,
हसीन चेहरे खिलते फूल;
हंसते रहते गुलशन गुलशन |

५.

मस्त हैं सब अपने ही घरों में ,
कौन गलियों की पुकार सुने;
दीप मंदिर में जले कैसे ?

६.

तुमसे मिलने की खुशी भी है ,

न मिल पाने का गम भी;

कितने गम हैं जमाने में।

7.

खडे सडक इस पार रहे हम,

खडे सडक उस पार रहे तुम;

बीच में दुनिया रही भागती।

८.

कहके वफ़ा करेंगे सदा,

वो ज़फ़ा करते रहे यारो;

ये कैसा सिला है बहारो।

८.

चाहत थी हम कहें बहुत कुछ,

तुम हर लम्हा रहे लज़ाते;

हम कसमसाते ही रह गये।

९.

चर्चायें थीं स्वर्ग नरक की,

देखी तेरी वफ़ा-ज़फ़ा तो;

दोनों पाये तेरे द्वारे।।

१०.

तेरे सन्ग हर रितु मस्तानी,

हर बात लगे नई कहानी;

रात दिवानी सुबह सुहानी।

११.

बात क्या बागे-बहारों की,

बात न हो चांद सितारों की;

बात बस तेरे इशारों की।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग