blogid : 16095 postid : 789699

त्रिपदा अगीत.....डा श्याम गुप्त.....

Posted On: 27 Sep, 2014 Others में

drshyam jagaran blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

drshyamgupta

125 Posts

230 Comments

—— मेरे द्वारा प्रसूत..अतुकांत कविता विधा .अगीत का एक विशिष्ट छंद ….त्रिपदा अगीत… जिसमें १६-१६ मात्राओं की तीन पंक्तियाँ होती है ……प्रस्तुत है कुछ त्रिपदा अगीत…..

१.

यद्यपि परिवर्तन मुश्किल है,
साथ वक्त के यदि न चलेंगे;
तो पिछड़े ही रह जायेंगे |

२.

सपने देखें, स्वाभाविक है,
झूठे ख्वाव न देखे कोई;
सच कर पायें, सपने देखें |

3.

राहों में कांटे मिलने पर ,
चलना बंद नहीं कर देना;
अपने पथ से मत डिग जाना |

४.

चर्चाएँ थीं स्वर्ग, नरक की,
देखी तेरी वफ़ा-जफा तो;
दोनों पाए तेरे द्वारे |

५.

जग में खुशियाँ हैं इनसे ही,
हसीन चहरे, खिलते फूल;
खिलते रहते गुलशन गुलशन |

६.

खड़े सड़क इस पार रहे हम,
खड़े सड़क उस पार रहे तुम;
बीच में दुनिया रही भागती |

7.

चमचों के मज़े देख हमने,
आस्था को किनारे रख दिया;
दिया क्यों जलाएं हमीं भला|

८.

अंधेरों की परवाह कोई,
न करे, दीप जलाता जाए;
राह भटके को जो दिखाए |

९.

सिद्धि प्रसिद्धि सफलताएं हैं,
जीवन में लाती हैं खुशियाँ ;
पर सच्चा सुख यही नहीं है |

१०.

मन को समझे यदि यह मानव,
तो समझेगा बात सही है;
तन की कीमत कुछ न कहीं है |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग