blogid : 16095 postid : 788671

मेरा आधा भरा गिलास......डा श्याम गुप्त ....

Posted On: 25 Sep, 2014 Others में

drshyam jagaran blogJust another Jagranjunction Blogs weblog

drshyamgupta

125 Posts

230 Comments

मेरा आधा भरा गिलास……

हम लालग्रह पर पहुँचने की

सफलता का जश्न मना रहे थे,

नवरात्रों में ‘मोम’ के आशीर्वाद

के गुण गा रहे थे |

जोर शोर से देवी माँ के-

पंडाल सजाये जा रहे थे |

जन जन, टूटी-फूटी सडकों,

उफनाते सीवर, बहती हुई नालियां से युक्त

कूड़े के ढेर से बजबजाती हुई गलियों से होकर

कूड़े से पेट भरती गायों को देखेते हुए-

मंदिर जा रहे थे |

उधर बड़े-बड़े संस्थानों में देवियों का यौनशोषण और-

थाने में उनकी अस्मत का सौदा होरहा था |

कवि सम्मलेन में —

‘मुझे कान्हा बना देना,

उसे राधा बना देना’, गाया जा रहा था;

अंग्रेज़ी में हिन्दी पखवाड़ा मनाया जा रहा था |

बच्चे, डैड का ज़माना छोडो,

नए ज़माने का ‘अन्फोर्मल’ अपनाओ गीत गा रहे थे |

करोड़ों खर्च करके लाये हुए

ताम्बे के टुकड़े पर इतरा रहे थे |

वे ग्लेमरस व सेक्सी दिखने की चाह में

अधोवस्त्र दर्शाते हुए-

लक्स, लिरिल से नहा रहीं थीं |

मैंने पूछा ,’ये क्या होरहा है !!!!!’

वे बोले-‘पुराणपंथी हो,

सकारात्मक सोचो, नकारात्मक नहीं,

कमजोरियों पर नहीं, मज़बूतियों पर फोकस रखो,

आधे भरे गिलास को देखो,

आधे खाली को नहीं ||

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग