blogid : 26000 postid : 1367435

पहेलियाँ

Posted On: 13 Nov, 2017 Others में

Awake NowJust another Jagranjunction Blogs weblog

drsumitdubey

5 Posts

1 Comment

सोच कर देखा तो सब उल्टा पाया
जो सोची थी संगरचना
उसे पलटा पाया

क्या हो गया है सबको
किस आपा धापी
किस भागम भाग
किस अफरा तफरी
में झूझ रहे हो
क्या पहेलियाँ भूझ रहे हो

खुद बनाते हो
खुद बिगाड़ते हो
किस बात का संकोच है तुमको
इतना तूफानी दिमाग कहा से लाते हो
कैसे सोच लेते हो
कब कैसे किस तरह ज़िन्दगी की लकीरो को उल्टे
गुणा भाग जोड़ बाकी करके कुछ न कुछ पलटे

जीना ही भूल गए
रहना भी भूल गए
पलना ही भूल गए
पालना भी भूल गए

कितने बड़े बनना चाहते हो
किसको गुलाम बनाना चाहते हो
किस पर धौंस चलाना चाहते हो
होगा न कोई जवाब तुम्हारे पास
क्यूंकि तुमने छोड़ दी है जीने की आस

सब फटाफट पाना चाहते हो
सब खटाखट लाना चाहते हो
बना लो गोदाम घर को
कूड़े में रहने लगो

आगे की ज़िन्दगी को जीना चाहते हो
आज की ज़िन्दगी को छीनना चाहते हो
व्यर्थ समय गवा रहे हो
बिना बात के हवा खा रहे हो

निराशा ही हाथ लगेगी
हताश हो जाओगे
आगे आगे की ज़िन्दगी सोच कर
आज ही सुपुर्दे ख़ाक हो जाओगे

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग