blogid : 7037 postid : 243

हालात से हर आदमी हारा है इन दिनों

Posted On: 7 Oct, 2012 Others में

दिल की बातें दिल सेdrsuryabali.com

डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

47 Posts

1463 Comments

जागरण जंक्शन के सभी मित्रो को मेरा सादर नमस्कार। पाँच महीने से अधिक अंतराल के बाद कुछ मित्रों का आदेश मानना ही पड़ा। पेश है एक ग़ज़ल:

ग़ज़ल

गर्दिश में मुफ़लिसों का सितारा है इन दिनों।

बाज़ार ने गरीबों को मारा है इन दिनों॥


मुरझा रहे हैं फूल से बच्चे जो धूप में,

कूड़ा कबाड़ उनका सहारा है इन दिनों॥


जम्हूरियत ने लूट ली इज्ज़त और आबरू,

सहमा हुआ ये देश हमारा है इन दिनों॥


वो कब का थक के हार गया ज़िंदगी की जंग,

इंसाफ के मंदिर में जो हारा हैं इन दिनों॥


दहशत धमाके आगजनी लूट मार काट,

हर सम्त हादसों का नज़ारा है इन दिनों॥


काँटों भरी है राह मगर चल रहे हैं हम,

रस्ता भी अँधेरे में हमारा है इन दिनों॥


रोटी मकान कपड़े नहीं काम भी नहीं,

हालात से हर आदमी हारा है इन दिनों॥


बर्फ़ीली वादियाँ भी हवाले हैं आग के,

ख़तरे में डल वुलर का सिकारा है इन दिनों॥


“सूरज” बड़े लगन से सियासी कमाल ने,

कागज़ पे रामराज उतारा है इन दिनों॥

डॉ. सूर्या बाली “सूरज”

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (13 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग