blogid : 15605 postid : 1387227

शुक्र कर भगवान का

Posted On: 18 May, 2020 Others में

VOICESJust another Jagranjunction Blogs weblog

dryogeshsharma

85 Posts

16 Comments

शुक्रकर भगवान का,
कि तू है घर-परिवार के साथ।
देख उस अभागे को,
जो भटक रहा है, सुनसान सड़्क पर।
कहीं घर की दहलीज नसीब नहीं,
किसी को आखिरी लम्हॉ में,
बेटा भटक रहा है बियाबान सड़्कों पर,
और बाप दफन हो रहा है लावारिस, कब्र में।
शुक्र है, चुल्हा तेरा जल रहा है,
तू सुबह सहरी, रात में इफ्तहार,
भोग रहा है।
कहीं एक राहगीर भी रह गया है,
जो एक रोटी के लिये तड़्प रहा है।
क्यों हो रहा है उतावला,
ईद पर गले मिलने के लिये,
सोच उस अभागी कायनात का,
जो बच्चों को देखे बिना ही,
कह गया दुनिया को अलविदा।
अब तू किसी भ्रम में ना रहना,
ना ऊपर वाला तेरे को बचा पायेगा,
और ना नीचे वाला कुछ कर पायेगा,
इंसानों की इबादत पर हंस कर बोला वो,
अपने पापों को मुझ पर ना धोया कर,
अपने कर्मों को तू खुद देखा कर।

 

 

 

नोट : उपरोक्त विचारों के लिए लेखक स्वयं उत्तरदायी हैं।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग