blogid : 319 postid : 1395707

60 के दशक में हीरो से ज्यादा फीस लेती थी सुचित्रा सेन, राजकपूर का फूल देने का अंदाज नहीं आया पसंद तो रिजेक्ट कर दी फिल्म

Posted On: 6 Apr, 2019 Bollywood में

Pratima Jaiswal

खजाना मस्तीजब हों अकेले और उदास कर लें थोड़ी मस्ती से मुलाकात

Entertainment Blog

2623 Posts

670 Comments

सुचित्रा सेन हिन्दी सिनेमा में एक ऐसा नाम जिनके नाम कई यादगार फिल्में हैं। आज बॉलीवुड में चाहे कितने ही सितारे क्यों न आ जाए लेकिन जब भी पुराने दिनों की बात होगी तो सुचित्रा सेन का नाम सबसे बेहतरीन अभिनेत्रियों में शामिल रहेगा।आज उनका जन्मदिन है, आइए जानते हैं उनसे जुड़ी खास बातें।

 

 

विदेश में सुचित्रा ने की थी पढ़ाई
चित्रा सेन का असली नाम रोमा दासगुप्ता है उनका जन्म आज ही के दिन 1931 को पवना (अब बांग्लादेश) में हुआ। सुचित्रा के पिता करूणोमय दासगुप्ता स्कूल में हेडमास्टर थे। 5 भाई बहनों में सुचित्रा तीसरी संतान थीं। सुचित्रा सेन ने अपनी स्कूली पढ़ाई पवना से ही की। इसके बाद वह इंग्लैंड चली गईं और समरविले कॉलेज, ऑक्सफोर्ड से अपना ग्रेजुएशन किया। 1947 में उनकी शादी बंगाल के जाने माने बिजनेसमैन आदिनाथ सेन के बेटे दीबानाथ सेन से हुई।

 

 

हीरो से ज्यादा फीस लेने वाली हीरोइन
1952 में सुचित्रा सेन ने एक्ट्रेस बनने के लिए फिल्म इंडस्ट्री में कदम रखा और बांग्ला फिल्म ‘शेष कोथा’ में काम किया हालांकि फिल्म रिलीज नहीं हो सकी। 1952 में प्रदर्शित बांग्ला फिल्म ‘सारे चतुर’ उनकी पहली फिल्म थी इसमें उनके साथ उत्तम कुमार थे। 1962 में ‘बिपाशा’ में काम करने के लिए उन्हें एक लाख रुपए मिले थे जब कि हीरो उत्तम कुमार को सिर्फ अस्सी हजार रुपयों से संतोष करना पड़ा था। 1963 में सुचित्रा सेन की एक और सुपरहिट फिल्म ‘सात पाके बांधा’ रिलीज हुई। उन्हें इस फिल्म के लिए मास्को फिल्म फेस्टिवल में सर्वश्रेष्ठ फिल्म एक्ट्रेस के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। यह फिल्म इंडस्ट्री के इतिहास में पहला मौका था जब किसी भारतीय एक्ट्रेस को विदेश में पुरस्कार मिला था। बाद में इसी कहानी पर 1974 में हिंदी में ‘कोरा कागज’ बनीं जिसमें सुचित्रा सेन का किरदार जया बच्चन ने निभाया।

 

 

फूल देने के अंदाज से बिगड़ी सुचित्रा
हिंदी सिनेमा में सुचित्रा सेन की धमाकेदार एंट्री हुई बिमल रॉय की ‘देवदास’ से। साल 1955 में रिलीज हुई ‘देवदास’ में सुचित्रा सेन ने पारो की भूमिका में जान भर दी। वहीं सुचित्रा सेन 1975 में रिलीज हुई फिल्म ‘आंधी’ से अपनी एक अलग छाप छोड़ी। सुचित्रा सेन बड़े से बड़े फिल्मकारों के साथ काम करने का प्रस्ताव ठुकराती रहीं। सुचित्रा ने राज कपूर की एक फिल्म में काम करने का प्रस्ताव इसलिए ठुकराया क्योंकि राज कपूर द्वारा झुककर फूल देने का तरीका उन्हें पसंद नहीं आया था।…Next

 

Read More :

कभी आर्दश बहू के तौर पर स्मृति ईरानी ने बनाई थी अपनी पहचान, आज है लोकप्रिय नेता

बंगाली फिल्म से रानी मुखर्जी ने किया था डेब्यू, अभिषेक बच्चन के साथ था अफेयर

90 के दशक का मशहूर गाना ‘घर से निकलते ही’ फेम मयूरी कांगो गूगल में करती हैं जॉब

 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग