blogid : 319 postid : 684786

अमरीश पुरी की आंखों में क्या सपना था

Posted On: 12 Jan, 2014 Bollywood में

खजाना मस्तीजब हों अकेले और उदास कर लें थोड़ी मस्ती से मुलाकात

Entertainment Blog

2726 Posts

670 Comments

अमरीश पुरी हिन्दी सिनेमा के मशहूर खलनायक रहे इसके बावजूद भी उनकी आंखें एक मौके की तलाश करती रहीं. यह मौका उन्हें अपने अभिनय की कला को साबित करने के लिए नहीं चाहिए था क्योंकि फिल्मों में खलनायक का किरदार उन्होंने जिस तरीके से निभाया उसके बाद उनके अभिनय पर अंगुली उठाने का दम किसी में नहीं था.


amrish puriअमरीश पुरी की आंखों में पल रहे सपने का नाम था ‘बॉलीवुड का सुपरस्टार नायक बनना’ और यह सपना शायद उनके भीतर तब से था जब उन्होंने हिन्दी सिनेमा में कदम रखा था. फिल्मों की दुनिया वास्तव में अद्भुत दुनिया है क्योंकि यहां आपके सपने किस रूप और किस शर्त के साथ पूरे होंगे, इस बात का कयास लगाना भी मुश्किल है. शाहरुख खान ने जब बॉलीवुड में एंट्री ली थी तो उन्हें लगा था कि दर्शक केवल उन्हें खलनायक के रूप में ही देख पाएंगे और वो कभी नायक के रूप में दर्शकों के सामने नहीं आ पाएंगे लेकिन जब ‘दिल वाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ सिनेमाघरों में रिलीज हुई तो शाहरुख खान एक रोमांटिक हीरो के रूप में दर्शकों के सामने आए. अमरीश पुरी की किस्मत शाहरुख खान जैसी नहीं थी. उन्हें दर्शकों ने बॉलीवुड के खलनायक के रूप में ही अपनाया और उनका नायक बनने का सपना अधूरा ही रह गया. अमरीश पुरी के इस सपने को इसलिए याद किया जा रहा है क्योंकि आज ही के दिन 12 जनवरी को हिन्दी सिनेमा ने एक बेहतरीन अभिनेता खो दिया था.

मोगेंबो ने 34 साल तक दर्शकों को खुश किया


amrish puri deathअमरीश पुरी के बॉलीवुड का नायक बनने के सपने को हमने एक शब्द द्वारा पूरा करने की कोशिश की उनके नाम के आगे अभिनेता लगाकर क्योंकि अमरीश पुरी भले ही बॉलीवुड के खलनायक हों पर अपने अभिनय की कला को उन्होंने बेहतरीन रूप में सिद्ध किया और अभिनय की कला को दर्शकों के सम्मुख सिद्ध करने वाला हर कलाकार एक अभिनेता है.


अमरीश पुरी ने अपने फिल्मी कॅरियर की शुरुआत साल 1970 में आई फिल्म ‘प्रेम पुजारी’ से की. फिल्म में उनकी भूमिका काफी छोटी थी, जिसकी वजह से उनकी प्रतिभा को नहीं पहचाना जा सका. वह फिल्म ‘रेशमा और शेरा’ में पहली बार बड़ी भूमिका में नजर आए. इस फिल्म में वह पहली बार अमिताभ के साथ नजर आए. अमरीश पुरी का सफर साल 1980 के दशक में यादगार साबित हुआ. इस पूरे दशक में उन्होंने बतौर खलनायक कई बड़ी फिल्मों में अपनी छाप छोड़ी. साल 1987 में शेखर कपूर की फिल्म ‘मिस्टर इंडिया’ में मोगैंबो की भूमिका के जरिए सभी के जेहन में छा गए. इस फिल्म का एक डायलॉग ‘मोगैंबो खुश हुआ’ आज भी सिनेमा प्रेमियों के जेहन में ताजा है और इसी डायलॉग के साथ अमरीश पुरी को चाहने वाले उन्हें याद किया करते हैं.


गैरों को गम देने की फुरसत नहीं

अमरीश पुरी: खलनायक नहीं नायक

एक दुर्घटना ने छीन लिया कंची आंखों वाला सितारा


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग