blogid : 319 postid : 1391935

इस फिल्म के लिए अक्षय कुमार नहीं दीपक तिजोरी थे पहली पंसद, अब दिखते हैं ऐसे

Posted On: 28 Aug, 2018 Bollywood में

Shilpi Singh

खजाना मस्तीजब हों अकेले और उदास कर लें थोड़ी मस्ती से मुलाकात

Entertainment Blog

2227 Posts

670 Comments

बॉलीवुड में हर किसी का सपना होता है अगर वो फिल्मों में काम करे तो बतौर हीरो। लेकिन कुछ ऐसे भी एक्टर हैं, जो हीरो की छवि वाले तो होते हैं लेकिन वो महज एक सपोर्टिंग एक्टर बनकर रह जाते हैं। इस लिस्ट में एक खास नाम है दीपक तिजोरी, जो बतौर हीरो हमेशा असफल रहे, लेकिन लोगों ने उन्हें हर बार एक सपोर्टिंग एक्टर के तौर पर हिट बताया। आज दीपक भले ही फिल्मों से दूर हों, लेकिन उनकी एक्टिंग लोगों को आज भी याद है। दीपक आज अपना 57वां जन्मिदन मना रहे हैं, ऐेसे में चलिए जानते हैं उनसे जुड़ी कुछ खास बातें।

 

 

 

फिल्म ‘आशिकी’ से हुए मशहूर

 

deepak

 

दीपक ने कॅरियर की शुरुआत ‘तेरा नाम मेरा नाम’ फिल्म से की थी, जिसमें उनका किरदार छोटा था। लेकिन इस फिल्म के बाद उन्होंने खुद को एक ऐसे स्टार के रूप में बानाया, जो हीरो न होते हुए भी एक बड़ा स्टार था। दीपक को 1990 में आई फिल्म ‘आशिकी’ से वो पहचान मिली जिसकी उन्हें चाहत थी। इस फिल्म के जरिए उन्होंने रातों रात मशहूर होने वाला ख्वाब सच होते देखा था।

 

आमिर खान और अक्षय कुमार के साथ दी सुपरहिट फिल्में

 khiladi

 

दीपक के पास फिल्मों के ऑफर आए लेकिन सभी सपोर्टिंग किरदार ही। दीपक ने सारे किरदारों पर मुहर लगाई और सभी सुपरहिट साबित हुए। दीपक ने आमिर के साथ हिट फिल्म ‘दिल है की मानता नही’, अक्षय कमार के साथ ‘खिलाड़ी’ जैसी फिल्मों में काम किया। सपोर्टिंग एक्टर के तौर पर दीपक तिजोरी सुपरहिट हो गए और सभी की पसंद बन गए।

 

बतौर हीरो पहली फिल्म हुई फ्लॉप

 

deepak film

 

आप इसी बात से अंदाजा लगा सकते हैं कि दीपक उस वक्त इतने मशहूर थे कि फिल्म ‘जो जीता वही सिकंदर’ में उन्होंने शेखर मल्होत्रा किरदार के लिए अक्षय कुमार की जगह ली थी। दीपक को आखिरकार वो मौका मिला जिसका उन्हें इतंजार था। दीपक बतौर हीरे अपनी पहली फिल्म ‘पहला नशा’ के साथ तैयार थे। इस फिल्म में उनके साथ पूजा भट्टा और रवीना टंडन भी थीं। लेकिन इतनी बड़ी और जबरदस्त कास्ट होने के बाद भी ये फिल्म बुरी तरह पिट गई और हीरो बनने का दीपक तिजोरी का सपना भी चकनाचूर हो गया। इसके बाद उन्हें ‘कभी हां कभी ना’ में शाहरुख के साथ देखा गया था।

 

निर्देशक के तौर पर मिली असफलता

 

deepakk

 

दीपक ने खुद को सपोर्टिंग किरदार से दूर कर लिया और निर्देशक बनने का फैसला कर लिया और 2003 में एक एडल्ट फिल्म से अपनी निर्देशन पारी की शुरुआत की, लेकिन ये फिल्म असफल रही। इसके बाद उन्होंने कई और फिल्में डायरेक्ट कीं जिनमें ‘टॉम डिक और हैरी’, ‘फॉक्स’ और ‘खामोशी – खौफ की एक रात’ बुरी तरह फ्लॉप रही। इसे बदकिस्मती ही कहा जाए कि दीपक तिजोरी ना सिर्फ लीड हीरो के तौर पर फ्लॉप रहें बल्कि उनकी डायरेक्ट की गई लगभग सभी फिल्में बुरी तरह फ्लॉप रहीं।

 

छोटे पर्दे पर भी किया है निर्देशक का काम

 Deepak-Tijori

 

दीपक ने फिल्मों के अलावा टीवी पर भी अपनी छाप छोड़ी, उन्होंने कई शो बनाए जिनमें ‘रिश्ते’ बेहद मशहूर रहा. साथ ही उन्होंने ‘बॉम्बे ब्लू’ का भी निर्माण किया जिसमें दीपक ने खुद काम किया था। इसके अलावा उनके निर्देशन में कुछ लीक से हटकर शो भी बने जैसे, ‘सस्पेंस’, ‘खौफ़’, ‘डायल 100’ और ‘एक्स-जोन’।…Next

 

Read More:

सलमान के जीजा आयुष उनके नहीं बल्कि इस खान के हैं फैन, इस सुपरस्टार को भी करते हैं पंसद

मलाइका ने अरबाज को किया था शादी के लिए प्रपोज, करोड़ों में है फीस

बॉलीवुड में सलमान खान के पूरे हुए 30 साल, किरदार जो बने यादगार

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग