blogid : 319 postid : 1396880

पंकज त्रिपाठी जब जेल गए, तो आंखें खुलीं और बदल लिया करियर का रास्‍ता

Posted On: 5 Sep, 2019 Bollywood में

Rizwan Noor Khan

खजाना मस्तीजब हों अकेले और उदास कर लें थोड़ी मस्ती से मुलाकात

Entertainment Blog

2727 Posts

670 Comments

शानदार अभिनय के दम पर फैंस के दिल में जगह पक्‍की करने वाले पंकज त्रिपाठी ने सफलता मिलने से पहले लंबा स्‍ट्रगल झेला है। पंकज त्रिपाठी का जन्‍मदिन 5 सितंबर यानी आज उनके फैंस सेलीब्रेट कर रहे हैं। वह आज 43 साल के हो गए। इस मौके पर जानते हैं उनकी सफलता के कुछ दिलचस्‍प किस्‍से-

 

 

नेता बनने की ख्‍वाहिश थी बन गए अभिनेता
बिहार के गोपालगंज जिले के बेलसंद में जन्‍मे पंकज त्रिपाठी ने एक इंटरव्‍यू में बताया था कि वह कॉलेज के दिनों में वह छात्र राजनीति का हिस्‍सा बन गए। इस दौरान उन्‍होंने एबीवीपी की सदस्‍यता ली और छात्रों के हित के लिए कार्यक्रमों, प्रदर्शन में हिस्‍सा लेने लगे। इस बीच 1993 में राज्‍य सरकार के खिलाफ आवाज उठाने पर उन्‍हें गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया गया। जेल से बाहर आने के बाद उनका अपने करियर को लेकर दृष्टिकोण बदल गया। इसके बाद वह नेशनल स्‍कूल ऑफ ड्रामा दिल्‍ली आ गए।

 

आंधी में उड़ जाती थी गांव के घर की छत
पंकज ने अप्रैल में मुंबई के मड आईलैंड में अपने सपनों का घर खरीदा है। उन्‍होंने एक इंटरव्‍यू में कहा कि वह वो दिन नहीं भूले हैं जबकि तूफान उनके छप्‍पर और मिट्टी से बने घर को तहस नहस कर जाता था। वह बताते हैं कि तूफान के कारण टीन से बनी छत हवा में उड़ गई थी और वह खुले आसमान के नीचे से अपनी उड़ती छत की टीन को देख रहे थे। उन्‍होंने कहा कि वह जमीन से जुड़े आदमी हैं और अपने संघर्ष के दिनों को कभी नहीं भुला सकते हैं।

 


गैंग्‍स ऑफ वासेपुर ने बदल दी किस्‍मत

उसके बाद 2012 में मुंबई आने के आठ साल बाद उन्होंने गैंग्स ऑफ़ वासेपुर के लिए एक ऑडिशन दिया जोकि आठ घंटे तक चला था। इस फिल्म के बाद पंकज त्रिपाठी को खास पहचान मिली। राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीत चुके पकंज त्रिपाठी को ऑस्‍कर के लिए भेजी गई फिल्‍म न्‍यूटन में किए गए अभिनय के लिए खूब सराहा जाता है। इसके बाद उनकी वेब सीरीज मिर्जापुर ने फैंस में तहलका मचा दिया। हाल में आई दूसरी वेबसीरीज सेक्रेड गेम्स 2 में भी पंकज त्रिपाठी की मजूबत अदाकारी देखने को मिली।…Next

 

 

Read More:

सैलेरी के पैसे बचाकर गर्लफ्रेंड के लिए इस वजह से स्कूटी खरीदना चाहते थे सुदीप, संघर्ष के दिनों में पत्नी चलाती थी घर का खर्चा

बॉलीवुड की वो हसीनाएं जो पहली फिल्म में सुर्खियां बटोरकर भी नहीं हो पाईं कामयाब, नहीं चला कॅरियर

अपने गर्दिश के दिनों में अमिताभ का गाया वो गाना जिसने पलट दी थी उनकी किस्मत, इन 4 बातों के लिए भी याद रहेगा आरके स्टूडियो

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग