blogid : 319 postid : 1396891

मिठाई की दुकान पर बैठने वाला वो लड़का, जिसने मधुबाला को इम्प्रेस करके उनके यहां नौकरी हासिल कर ली

Posted On: 6 Sep, 2019 Bollywood में

Pratima Jaiswal

खजाना मस्तीजब हों अकेले और उदास कर लें थोड़ी मस्ती से मुलाकात

Entertainment Blog

2727 Posts

670 Comments

यश जौहर की फिल्मों की विशेषता भव्य सेट और विदेशी लोकेशंस रहे हैं। वहीं, उनका नाम कई उम्दा फिल्मों को प्रोड्यूस करने के लिए भी याद रखा जाता है। यश जौहर एक ऐसे शख्स थे, जिन्होंने फिल्मों में अपना कॅरियर बनाने की उस दौर में ठानी जब इस पेशे को अच्छी नजरों से नहीं देखा जाता था। आज यश जौहर का जन्मदिन है, आइए जानते हैं उनसे जुड़ी कुछ खास बातें-

 

 

 

बेमन से दुकान पर बैठा करते थे करण जौहर
यश जौहर का जन्म 1929 में लाहौर में हुआ था। विभाजन के बाद उनका परिवार दिल्ली आ गया, जहां यश जौहर के पिता ने ‘नानकिंग स्वीट्स’ नाम से मिठाई की दुकान खोली। अपने 9 भाई-बहनों में सबसे ज्यादा पढ़े-लिखे होने की वजह से उन्हें दुकान पर बैठा दिया था जबकि यश को दुकान पर बैठना बिल्कुल भी पसंद नहीं था। यश जौहर की मां को जब ये बात पती चली तो उन्होंने कहा, ‘तुम मुंबई चले जाओ मिठाई की दुकान संभालने के लिए तुम नहीं बने हो।’ उनकी मां ने यश जौहर के मुंबई जाने से एक हफ्ते पहले ही घर से गहने और कुछ पैसे गायब कर दिए। इसका शक सिक्योरिटी वाले पर गया और उसकी पिटाई भी हुई लेकिन यश की मां तो बेटे को मुंबई भेजने के लिए पैसे का जुगाड़ कर रही थीं। उन्हें काफी बाद में ये सच्चाई पता चली।

 

 

मधुबाला की फोटो ने बदल दी तकदीर
मुंबई पहुंचकर वो टाइम्स ऑफ इंडिया न्यूजपेपर में फोटोग्राफर बनने के लिए स्ट्रगल करने लगे। उन दिनों ‘मुगल ए आजम’ की शूटिंग चल रही थी। उसी के सेट पर उन्होंने मधुबाला की फोटो खींची थी। मधुबाला के बारे में कहा जाता था कि वो किसी को अपनी तस्वीर नहीं लेने देती थीं लेकिन यश जौहर पढ़े-लिखे थे और अंग्रेजी भी बोल लेते थे। जिससे इम्प्रेस होकर मधुबाला ने उन्हें तस्वीर लेने की इजाजत दे दी। यही नहीं मधुबाला यश जौहर से इतना ज्यादा इम्प्रेस हो गईं कि अपना गार्डन भी घूमा लाईं। इसके बाद तो यश जौहर की चांदी हो गई और उन्हें ऑफिस में नौकरी मिल गई।

 

पहली फिल्म ने नहीं किया कोई कमाल
यश जौहर ने बतौर निर्माता पहली फिल्म अमिताभ बच्चन और शत्रुघ्न सिन्हा के साथ ‘दोस्ताना’ बनाई थी। यह फिल्म हिट रही थी लेकिन इसके बाद उनकी ज्यादा फिल्में चली नहीं इसलिए वो फिल्म प्रोड्यूस करने के साथ इम्पोर्ट-एक्सपोर्ट का बिजनेस भी करते थे।

 

 

कामयाब रहा प्रोडक्शन हाउस
यश जौहर ने बतौर को-प्रोड्यूसर के रूप में देवानंद के प्रोडक्शन हाउस से जुड़ गए। उन्होंने गाइड, ज्वेलथीफ, प्रेम पुजारी, हरे रामा हरे कृष्णा जैसी शानदार फिल्मों को परदे पर लाने में अपना अहम योगदान दिया। यश जौहर ने साल 1977 में अपनी प्रोडक्शन कंपनी धर्मा प्रोडक्शन शुरू की।…Next

 

 

Read More :

आठ बहन-भाईयों के साथ झुग्गी में रहते थे गौतम अडानी, आज इतनी दौलत के हैं मालिक

सलमान खान की दबंग-3 में नहीं दिखेंगी मलाइका अरोड़ा, फिल्म के बारे में जानें 5 दिलचस्प बातें

हिन्दी सिनेमा की पहली ‘किसिंग क्वीन’ थीं देविका रानी, फल बेचा करते थे दिलीप कुमार उन्हें बना दिया स्टार

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग