blogid : 319 postid : 1396710

गुलशन कुमार को 16 गोलियां मारने के बाद 15 मिनट तक उनकी चीखें सुनता रहा था शूटर, जानें हादसे की पूरी कहानी

Posted On: 12 Aug, 2019 Bollywood में

Pratima Jaiswal

खजाना मस्तीजब हों अकेले और उदास कर लें थोड़ी मस्ती से मुलाकात

Entertainment Blog

2746 Posts

670 Comments

80-90 के दशक में ज्यादातर घरों में धार्मिक गाने बजा करते थे। इन गानों का गायक कोई भी हो लेकिन इनकी पहचान बनी टी-सीरिज कंपनी के निर्माता गुलशन कुमार के नाम से। उनकी कहानी जितनी दिलचस्प है, उनकी मौत उतनी ही दर्दनाक भी है। आज के दिन वो दुनिया को अलविदा कह गए थे, आइए, एक नजर डालते हैं उनके दिलचस्प सफर पर-

 

Gulshan-Kumar1

 

गुलशन कुमार का जन्म दिल्ली में एक पंजाबी परिवार हुआ था। उनके पिता दिल्ली के दरियागंज बाजार में एक फ्रूट जूस के विक्रेता थे।गुलशन कुमार ने महज 23 साल की ही उम्र से परिवार की मदद से एक दुकान ली और वहां से सस्ते ऑडियो कैसेट बेचने शुरू कर दिया।

खुद बनाने लगे कैसेट

gulsha

 

रिकार्ड्स और ऑडियो कैसेट का कारोबार धीरे-धीरे रफ्तार पकड़ने लगा, इस कारोबार को बड़ा करने के लिए उन्होंने खुद ही ऑडियो कैसेट् बनाना शुरू कर दिया, लेकिन किसे पता था कि उनका यह फैसला उन्हें उस मुकाम पर ले जा रहा है, जहां पहुंचने की उम्मीद हर कोई करता है।

खुद की खोली कंपनी

tseries

 

गुलशन ने अपने ऑडियो कैसेट के व्यवसाय को ‘सुपर कैसेट्स इंडस्ट्रीज’ का नाम दिया। 1970 में उनका कारोबार और बढ़ा और उन्होंने दिल्ली से सटे नोएडा में अपनी एक म्यूजिक कंपनी खोल दी।देखते ही देखते गुलशन कुमार के कैसेट्स ने हर घर पर में जगह बना ली।किसी को क्या पता था कि एक ठेले से कैसेट्स बेचने की शुरुआत करने वाला एक आम इंसान भी करोड़पति बन सकता है।

 

gulshan-kumar

 

गुलशन के सपनों ने किया मुंबई का रूख

गुलशन ने अपने कारोबार को और बढ़ाने के लिए मुंबई आए वह सस्ते और अच्छे कैसेट्स लोगों तक पहुंचाते थे। बॉलीवुड आते ही उन्होंने अपनी कंपनी को ‘टी-सीरीज’ के नाम से बदल दिया। म्यूजिक इंजस्ट्री में गुलशन के नाम का सिक्का चलने लगा। उनकी कंपनी के बैनर तले कई सारे गाने बने, भजन बने, रिमिक्स गानों का जबरदस्त संगम हुआ।

music

 

गुलशन कुमार ने भक्ति में ऐसे गाने गाए जो आज भी लोगों को अच्छे से याद हैं। ऐसा माना जाता है भक्ति गानों की शुरुआत उन्हींं ने की थी. गुलशन ने कई नई और उम्दा प्रतिभाओ को मौका दिया जिन्होंने आगे चलकर बॉलीवुड में सफलता मिली। जिसमें कुमार सानू, सोनू निगम, अनुराधा पौडवाल का नाम शामिल है।

 

जब गुलशन के पैसे पर पड़ी अंडरवर्ल्ड की नजर

गुलशन ने केवल एक बेहतर इंसान थे बल्कि उस वक्त सबसे ज्यादा टैक्स देने वाले लोगों की सूची में भी पहले स्थान पर थे, वहीं आज भी उनके नाम पर वैष्णो देवी में एक भंडारा चलता है। 

 

gulsan song

 

 क्या हुआ था घटना वाले दिन
एस हुसैन जैदी ने अपनी किताब My name is abu salem में बताया कि अबु सलेम ने सिंगर गुलशन कुमार से 10 करोड़ रुपए देने के लिए कहा था। गुलशन कुमार ने मना कर दिया था। 12 अगस्त 1997 को मुंबई के जीतेश्वर महादेव मंदिर के बाहर 16 गोली मारकर गुलशन कुमार की हत्या कर दी गई थी।  गुलशन कुमार ने मना करते हुए कहा था कि इतने रुपये देकर वो वैष्णो देवी में भंडारा कराएंगे। इस बात से नाराज सलेम ने शूटर राजा के जरिए गुलशन कुमार का दिन दहाड़े मर्डर करवा दिया था। गुलशन कुमार को मारने के बाद शूटर राजा ने अपना फोन 10 से 15 मिनट तक ऑन रखा था ताकि गुलशन कुमार की चीखें अबु सलेम सुन सके।.
..Next

Read More :

इस गाने को सुनकर हजारों लोगों ने कर लिया था स्यूसाइड, सरकार को करना पड़ा बैन

आपको हंसाकर इतना कमाते हैं कपिल और उनकी टीम, जानें इन 6 किरदारों की मोटी कमाई

टिप टिप.. गाने के बाद रवीना के सपने देखने लगे थे लोग, लेकिन तब रवीना इन्हें चाहती थी

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग