blogid : 319 postid : 1397464

दस्‍यु सुंदरी फूलन देवी को पर्दे पर जिंदा करने वाली सीमा विश्‍वास कैसे बनीं थीं बैंडिट क्‍वीन

Posted On: 14 Jan, 2020 Bollywood में

Rizwan Noor Khan

खजाना मस्तीजब हों अकेले और उदास कर लें थोड़ी मस्ती से मुलाकात

Entertainment Blog

2828 Posts

670 Comments

चंबल की कुख्‍यात डकैत रहीं फूलन देवी की कहानी को पर्दे के जरिए लोगों के सामने लाने वाली सीमा विश्‍वास लोगों के जेहन में बस गईं। सीमा विश्‍वास बॉलीवुड की उन अभिनेत्रियों में शुमार हैं जिन्‍हें चैलेंजिंग रोल करने के लिए जाना जाता है। नेशनल अवॉर्ड, फिल्‍मफेयर अर्वाड समेत सिनेमाजगत के कई प्रतिष्ठित पुरस्‍कार हासिल कर चुकीं सीमा बिश्‍वास का 14 जनवरी को 55वां जन्‍मदिन हैं। इस मौके पर जानते हैं उनके बैंडिट क्‍वीन बनने की कहानी।

 

 

 

 

 

गुवाहाटी, नलबाड़ी, दिल्‍ली और मुंबई
गुवाहाटी में जन्‍मीं सीमा बिश्‍वास के पैरेंट्स बचपन में ही उनको लेकर असम के नलबाड़ी में शिफ्ट हो गए। यहां उनकी मां असमी सिनेमा और नाटकों में अभिनय के लिए जानी जाती थीं। सीमा बिश्‍वास की मां चाहती थीं कि उनकी बेटी अभिनय में कदम रखे। यही नतीजा था कि न चाहते हुए भी कम उम्र में सीमा बिश्‍वास नाटकों में काम करने लगीं। सीमा बिश्‍वास ने अभिनय में अपना करियर बनाने के इरादे से नेशनल स्‍कूल ऑफ ड्रामा में एडमीशन ले लिया।

 

 

 

 

 

 

8 सौ रुपये महीना वेतन
पढ़ाई के दौरान वह एनएसडी के लिए नाटकों का आयोजन करने वाली कंपनी के लिए अभिनय करने लगीं। इस दौरान वह अपने अभिनय के दम पर नाटकों में लीड रोल निभाने लगीं। 1992 में सीमा बिश्‍वास को नाटकों में अभिनय के लिए करीब 800 रुपये महीना वेतन मिलता था। उस वक्‍त पर इतने कम पैसों से उनके लिए गुजारा करना मुश्किल होने लगा तो उन्‍होंने हाथ पैर मारने शुरू किए और अपनी कुछ फोटो डायरेक्‍टर्स के पास भिजवाईं ताकि उन्‍हें रोल मिल सके।

 

 

 

 

 

 

शेखर कपूर तस्‍वीरें देखकर चौंक गए
फूलन देवी ने एक इंटरव्‍यू में बताया था कि शेखर कपूर उन दिनों दस्‍यु सुंदरी फूलन देवी की बायोग्राफी पर काम कर रहे थे। उनके हाथ सीमा बिस्‍वास की तस्‍वीरें लगीं तो वह अनप्रोफेशनल तरीके से खिंचवाई गईं फोटो देखकर सीमा को मिलने के लिए बुलाया। खूबसूरत बहू नाटक में अभिनय के चलते सीमा बिश्‍वास शेखर कपूर से मिलने नहीं जा पाईं। शेखर कपूर खुद नाटक में उनका अभिनय देखने के लिए पहुंच गए। यहां शेखर कपूर ने सीमा को फूलन देवी पर बनने वाली फिल्‍म की स्क्रिप्‍ट दी और उनको लीड रोल करने का ऑफर दिया।

 

 

 

 

 

 

बैंडिट क्‍वीन फिल्‍म ने करियर बदला
फूलन देवी के जीवन पर लिखी गई माला सेन की पुस्‍तक पर आधारित शेखर कपूर की फिल्‍म बैंडिट क्‍वीन के नाम से 1994 में रिलीज की गई। फिल्‍म के रिलीज होते ही सीमा बिश्‍वास अभिनय की दुनिया में छा गईं। बैंडिट क्‍वीन फिल्‍म को नेशनल अवॉर्ड से नवाज गया। फूलन देवी का किरदार निभाने वाली सीमा बिश्‍वास को एक्टिंग के लिए नेशनल अवॉर्ड से नवाजा गया। इसके अलावा भी फिल्‍म ने कई नेशनल अवॉर्ड हासिल किए। सीमा बिश्‍वास के बॉलीवुड करियर की यह दूसरी फिल्‍म थी।…NEXT

 

 

Read More:

2019 में सबसे ज्‍यादा सुना गया केसरी का गाना, ये फिल्‍म बनी मूवी ऑफ द ईयर, पूरी लिस्‍ट देखिए

सलमान खान ने जूठे बर्तन धोये और गंदा टॉयलेट साफ किया तो कलाकार शर्म से जोड़ने लगे हाथ

छपाक मूवी में दीपिका पादुकोण का जला चेहरा देख रो उठे लोग

450 से ज्‍यादा फिल्‍मों में बोल्‍ड डांस कर मशहूर हुईं सिल्‍क स्मिता के इन गानों को जरूर सुनिए

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग