blogid : 11961 postid : 677464

मिर्जा ग़ालिब: कहते हैं जिसको इश्क, खराबी है दिमाग की

Posted On: 27 Dec, 2013 Others में

Famous Quotationsमहान विचारकों के महान कथन

Quotes on Life

77 Posts

3 Comments

ghalib

मैं तो मर के भी बज्म-ए-वफा के जिंदा हूं गालिब

तलाश कर मेरी महफिल मेरा मज़ार न पूछ..!!

*************************************************


जब लगा था ‘तीर’ तब इतना दर्द न हुआ गालिब

ज़ख्म का एहसास तब हुआ जब ‘कमान’ देखी अपनों के हाथ में!


***************************************************


कहते है जिसको इश्क, खराबी है दिमाग की.


**************************************************


जान तुझपर निसार है

मैं नहीं जानता दुआ क्या है


************************************************


ज़िंदगी उसकी जिसकी मौत पे ज़माना अफसोस करे,

गालिब यूं तो हर शख्स आता है इस दुनिया में मरने के लिए!


************************************************


उसने मिलने की अजीब शर्त रखी…

गालिब चल के आओ सूखे पत्तों पे लेकिन कोई आहट न हो!

Mirza Ghalib Poetry

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग