blogid : 14028 postid : 626156

अधूरी हसरत

Posted On: 15 Oct, 2013 Others में

वंदे मातरम्''न मैं कवी हूँ न कवितायें , मुझे अब रास आती हैं , मैं इनसे दूर जाता हूँ , ये मेरे पास आती हैं, हज़ारों चाहने वाले, खड़े हैं इनकी राहों में, मगर कुछ ख़ास मुझमें है , ये मेरे साथ आती हैं।''

अभिषेक

101 Posts

238 Comments

जिनके याद में
ताजमहल बना,
उनकी रूह
तो
तड़पती होगी,
संगमरमर की चट्टानों
के नीचे
जहाँ हवा भी
आने से डरती है,
वहां दो रूहें
कैसे
एक साथ रहती होंगी ?
मुमताज को
जीते जी तो
कैद होना पड़ा
कंक्रीट की मोटी दीवारों में ,
सब कुछ तो था
शायद
आजादी के अलावा ,
ख़ुशी के दो पल,
मिले हो
या
न मिले मिले हो
पर
कैद तो जिन्दगी भर मिली,
उन्हें आजाद कबूतरों को देख कर
उड़ने की चाहत तो थी ;
मगर
सल्तनत की मल्लिका
सोने के पिंजड़े में
कैद थीं .
शहंशाह ने
उन्हें समझा
एक खिलौना,
उनसे खेला
उन्हें चूमा ,
खिलौने के अलावा
कुछ और न थी
मुमताज बेगम ,
उनकी दीवानगी ही थी
कि
मौत को
अपना हमसफ़र
बना लिया;
शायद
मौत के आगोश में,
आजादी दामन थाम ले ,
शायद खुली हवा ,
और
प्रकृति के स्पर्श का
सानिध्य मिले ,
पर हसरतें कब
पूरी होती हैं ?
दफ़न हुई
तो
वहां पर भी
रूह तड़पती रह गयी

पथ्थरों नीचे

एक अधूरी टीस भारती ……….

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग