blogid : 25529 postid : 1388858

कोलकाता का एक रेल स्टेशन, नाम है उल्टा डांगा

Posted On: 30 May, 2018 Others में

kuchhalagsa.blogspot.comtrying to explore unknown facts of known things

gagansharma

110 Posts

6 Comments

यदि आप देश के विभिन्न भागों में घूमने-फिरने निकलें, चाहे रेल से या सड़क मार्ग से और आप उत्सुकता से राह में आने वाली जगहों को देख रहे हों तो रास्ते में आपको ऐसे-ऐसे नाम देखने-पढ़ने को मिलेंगे कि आप हैरत में पड़ जाएंगे कि यह कैसा नाम ? इंसानी रिश्तों के अलावा जानवरों के नाम के स्टेशन भी मिल जाएंगे। जैसे भैंसा गांव, गुड़ गांव, काला बकरा, दीवाना, छाता, लूला नगर, सिंगापूर, बिल्ली जंक्शन, झंझारपुर, लिलुआ, बेलूर, रिसरा, बैंडल इत्यादि, इत्यादि, इत्यादि। यदि ऐसे नामों की लिस्ट बनाई जाए तो पता नहीं कितने पन्नों का ग्रंथ बन कर तैयार हो जाए ! कुछ नाम तो ऐसे भदेस हैं जिनको लिस्ट में संकोचवश शामिल भी नहीं किया जा सकता ! हम में से ज्यादातर लोग सफर करते हुए ऐसे नाम पढते हैं, चौंकते हैं और मुस्कुरा कर आगे बढ़ जाते है। ऐसा नहीं है कि ऐसे नाम बड़े शहरों से दूर-दराज इलाकों में ही हों ! आप अपने शहर या इलाके में भी खोजेंगे तो आप को दसियों ऐसे नाम मिल जाएंगे, पर फर्क यही है कि रोज-रोज उनसे दो-चार होते रहने के कारण वे हमें अजीब से नहीं लगते, हमें उनकी आदत पड़ जाती है।

 

 

आज अखबार में किसी खबर के साथ एक अनोखा नाम जुड़ा देख बहुत कुछ पुराना याद आ गया। जिंदगी का एक बड़ा भाग बंगाल में बीतने के कारण आज कई ऐसे नाम जेहन में आने लगे जिनसे रोज ही आमना-सामना हुआ करता था पर वे अजीब नहीं लगते थे कभी ! चूँकि वर्षों स्कूल-कालेज फिर रोजगार के लिए लोकल ट्रेन ने अजीबो-गरीब स्टेशनों से परिचित करवाया सो उन्हीं का बखान पहले। अब तो भीड़-भाड़ बढ़ने से रेलवे ने कई जगहों से गाड़ियां चलाना शुरू कर दिया है पर तब के कलकत्ता के दो प्रमुख स्टेशन हुआ करते थे; पहला – हावड़ा; दुसरा – सियालदह। अब जब मुखियों के नाम ही ऐसे थे तो उनके पारिवारिक सदस्यों के नाम तो अजीब होने ही थे, लिलुआ, बेलूर, बाली, दमदम, बेलघरिया, खरदा इत्यादि, जो आज तक वैसे ही चले आ रहे हैं।

 

ऐसा ही एक स्टेशन है “उल्टाडांगा जंक्शन” जो सियालदह से उत्तरी चौबीस परगना की ओर चलने पर पहला स्टेशन है, अब इसका नाम बदल कर विधान नगर रोड हो जाने के बावजूद यह पुराने नाम से ही ज्यादा जाना जाता है। उस समय यह नाम कभी अजीब नहीं लगा पर अब ध्यान देने पर विचित्र लगता है ! आज यह कोलकाता के सबसे भीड़-भाड़ वाली जगहों में से एक है। इसका स्टेशन सड़क से करीब तीस फीट ऊपर है और इसके पास नीचे से कोलकाता की सर्कुलर रेल गुजरती है इसीलिए यह जंक्शन कहलाता है।  यह शहर के उत्तर-पूर्वी इलाके में, साल्ट-लेक के पास स्थित है।

उल्टा डांगा जैसे नाम के पड़ने की वजह का कारण खोजने पर पता चला कि किसी समय यहां मछली पकड़ने में उपयोग होने वाली “डिंगा” यानी नौकाओं की मरम्मत की जाती थी। जिसके लिए उन्हें उल्टा कर उनके पेंदे के बाहरी हिस्से में कोलतार लगा सूखने के लिए छोड़ दिया जाता था। फिर उनको दुरुस्त कर काम लायक बनाया जाता था। इसलिए उस इलाके में 1970 के दशक तक सैंकड़ों डींगियाँ या डोंगियां उल्टी पड़ी रहती थीं, इसीलिए इस इलाके का नाम उल्टो डिंगा पड़ गया था जो समय के साथ उल्टो डांगा और फिर हिंदी में उल्टा डांगा हो गया। अब तो यह कोलकाता के समृद्ध इलाकों में से एक है हालांकि अब इसका नाम बदल क इसे विधाननगर रोड कर दिया गया है पर यह अभी भी अपने पुराने नाम से ज्यादा जाना जाता है।

 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग