blogid : 25529 postid : 1350243

रियलिटी शो (!) और बाबा रामदेव जी

Posted On: 1 Sep, 2017 Others में

kuchhalagsa.blogspot.comtrying to explore unknown facts of known things

gagansharma

105 Posts

6 Comments

देश-दुनिया में हरेक इंसान को अपनी मन-मर्जी से जीने का, काम करने का, व्यवसाय को आगे बढ़ाने का, अपने भले-बुरे को समझने का पूरा हक़ है। पर जब कोई इंसान समाज में ख़ास पद, ख़ास मुकाम या किसी क्षेत्र में ख़ास दर्जा हासिल कर लेता है तो उससे आम जनता की कुछ और अघोषित अपेक्षाएं जुड़ जाती हैं। ज्यादातर लोगों के मानस में नेता, अभिनेता, आध्यात्मिक गुरुओं, साधू-संत-महात्मा इत्यादि की एक छवि बनी हुई है उसी के अनुसार लोग उनसे एक आदर्श और उच्च आचरण की अपेक्षा रखते हैं। हालांकि इन दिनों हर छवि खुद को खंडित करने पर तुली हुई है फिर भी अपेक्षाएं पूरी तरह ख़त्म नहीं हुई हैं। पर जब इन ख़ास लोगों को आम आदमी की तरह हरकतें करते पाया जाता है तो मन में अंदर ही अंदर ठेस तो लगती ही है, मोह-भंग भी हो जाता है। पता नहीं यह बात कुछ लोगों की समझ में क्यों नहीं आती जबकि उनके सामने इसके दुष्परिणामों के दसियों उदाहरण मौजूद होते हैं !!

इसी के तहत जो एक नाम जेहन में आता है वह है, बाबा रामदेव का। ढेरों विरोध, आरोपों व आलोचनाओं के बावजूद उनमें लोगों की आस्था और विश्वास बना हुआ है; यूँही उनके उत्पाद दिनों-दिन लोकप्रिय नहीं होते चले जा रहे हैं। पर कभी-कभी उनका प्रदर्शन के प्रति मोह दिलों में कहीं ना कहीं ठेस जरूर पहुंचा जाता है। कुछ दिनों “ॐ” का उच्चारण किया जाता हो: पर उसका स्तर किसी भी आम शो से ज्यादा नहीं है। हाँ यदि देश के अव्वल दर्जे के गायक, दिग्गज संगीतकार, निष्णात कलाकार इस आयोजन से जुड़े होते तो भी बात समझ में आती कि सचमुच भजन जैसी विधा को लोकप्रिय बनाने की कोशिश की जा रही है। पर लगता है कि सिर्फ विषय-वस्तु ही बदली गयी है बाकी सब कुछ जस का तस ही है।

पहले एक भौंडे हास्य मंच, जो द्विअर्थी संवादों और छिछले हास्य के लिए जाना जाता है, पर उन्होंने अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई थी और फूहड़ता से बच नहीं पाए थे। अभी फिर एक तथाकथित रियल्टी शो में उनका प्रमुख स्थान है। भले ही शो पर आयोजकों ने भक्ति की चाशनी चढ़ा दी हो, कोशिश कर के हिंदी शब्दों को प्रमुखता से बोला जाता हो, हर शुरुआत के पहले

आज जिस जगह पर रामदेव जी हैं वहां उन्हें किसी परिचय की जरूरत नहीं है। उन्हें यह समझना चाहिए कि उल्टी-सीधी किसी भी जगह पर जा कुछ भी करने से सिर्फ और सिर्फ उस आयोजन को आयोजित करने वालों को ही फ़ायदा होता है इनको तो नुक्सान के सिवा कुछ नहीं मिलने वाला ! किसी शो का हिस्सा बनने में भी कोई बुराई नहीं है पर उस मंच का एक स्तर होना चाहिए, उस विधा के लिए समर्पित कलाकारों की उपस्थिति होनी चाहिए। नाटकबाजी, फूहड़ता, दिखावे, नकली संवेदनाओं की जगह नहीं होनी चाहिए। आप एक जानी-मानी हस्ती हैं। करोड़ों लोगों की निगाहें आप पर लगी रहती है। लाखों की आस्था का आप केंद्र बिंदु है। कुछ ऐसा नहीं होना चाहिए जिससे लोगों की आपके प्रति आस्था, विश्वास, आदर के साथ-साथ आपकी गरिमा में भी कमी आए।

ये मेरे अपने विचार हैं ! मेरी सोच है कि जिस तरह आयोजकों ने रामदेव जी के हाथों में एक पाश्चात्य वाद्य यंत्र थमा कर चित्र को मुख्य आकर्षण बनाना चाहा है उससे बाबा जी की वर्षों की मेहनत से बनी उनकी छवि शायद निखरेगी तो नहीं ! उल्टा लोगों को और बातें बनाने का मौका मिल जाएगा। हम कितना भी कहें कि हमें किसी की परवाह नहीं पर कुछ बातों का कहीं ना कहीं, कुछ ना कुछ असर तो पड़ता ही है !!

#हिन्दी_ब्लागिंग

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग