blogid : 16670 postid : 749458

आंगन का वट ---निर्मला सिंह गौर (पर्यावरण दिवस पर )

Posted On: 3 Jun, 2014 Others में

भोर की प्रतीक्षा में ...कविताएँ एवं लेख

Nirmala Singh Gaur

54 Posts

872 Comments

देखते देखते मेरे आँगन का वट/
चार पत्तों से बढ़कर सघन हो गया /
मै वहीं का वहीँ, उसमे लाखों विहग /
उसका आगोश सारा गगन हो गया|
.
उसके शाखों में थी भोर संगीत मय/
पक्षियों के सुरीले स्वरों का उदय /
माँ के आँचल में शिशु की ज्यों किलकारियां /
झूमे शीतल पवन लेके बलिहारियां |
.
उसकी जड़ ने गिरा कर के दीवार को/
अपनी शक्ति का मुझको इशारा किया/
मै विवश ,वो प्रगति पथ पे संघर्ष रत /
मूक तरु ने मुझे ही नाकारा कहा |
.
मैंने भी फिर प्रयत्नों की पतवार से /
अपने जीवन का उद्देश्य तय कर लिया /
उसको प्रेरक समझ आया उसके निकट/
ये बताने कि क्या क्या फतह कर लिया |
.
किन्तु मेरी नज़र पर बज्र गिर गया /
मैंने ढूंढा वहां, मेरा वट था कहाँ /
उसको लोगों ने कटवा के टुकड़े किया
और ईंधन का सामान तय कर लिया |
.
नीड़ लाखों वहां पक्षियों के पड़े /
अपनी बरबादियों की ब्यथा कह रहे /
मेरे द्रग रो पड़े, ऐसा क्यों हो गया/
मूक तरु तू स्वयं को बचा ना सका |
.
देखते देखते वक्त बीता बहुत /
उसके नन्हें तनय हो गए अंकुरित /
फिर से होगा जवां ,फिर से होगा गठित /
धन्य है आसमाँ ,धन्य आंगन का वट/
धन्य है आसमाँ ,धन्य आँगन का वट |
.
निर्मला सिंह गौर

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग