blogid : 16670 postid : 726816

चले आये तुम ---निर्मला सिंह गौर

Posted On: 3 Apr, 2014 Others में

भोर की प्रतीक्षा में ...कविताएँ एवं लेख

Nirmala Singh Gaur

54 Posts

872 Comments

वक़्त-ए-गर्दिश में हमने पुकारा तुम्हें
जान जोख़िम में कर के चले आये तुम
हमने फूलों का रस्ता बताया मगर
देखा काँटों पे चल के चले आये तुम |
.
जब बहारें महकने लगीं थीं यहाँ
तब पुकारा तो तुम थे न जाने कहाँ
जब खिज़ां ने यहाँ एक रख्खा क़दम
तो ये गुलशन बचाने चले आये तुम |
.
जब मदद के लिए हमने दामन किया
तुमने सुख चैन अपना सभी भर दिया
जब हमें अपनी सासों के लाले पड़े
उम्र दामन में भर के चले आये तुम |
.
ज़िन्दगी भर मिले और बिछुड़ते रहे
फूल खिलते रहे और बिखरते रहे
दाना पानी हमारा जहां से उठा
अश्क आँखों में भर के चले आये तुम |
.
निर्मला सिंह गौर

.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.75 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग