blogid : 16670 postid : 689780

दर्द का तन्हा सफ़र है ---निर्मलासिंह गौर

Posted On: 19 Jan, 2014 Others में

भोर की प्रतीक्षा में ...कविताएँ एवं लेख

Nirmala Singh Gaur

54 Posts

872 Comments

दर्द का तन्हा सफ़र है /
और धुंधुली सी नज़र है /
रास्ते  अंजान से हैं /
भटक जाने का भी डर है/ …दर्द का तन्हा सफ़र है |
रोज़ के कुछ ख़ास गम हैं/
फिर भी औरों से तो कम हैं /
दिल तस्सल्ली दे रहा है /
आंखें देखो फिर भी नम हैं /
किस से  अपना दर्द बांटे /
ये तो बेगाना शहर है / …दर्द का तन्हा सफ़र है |
तुम अकेले दूर मंजिल /
साथ बस यादों का जम्घट /
अपने दामन् को बचाना /
खार हैं फूलों की सूरत /
मोम के हैं पांव नाज़ुक /
और शोलों की डगर है/ …दर्द का तन्हा सफर है |
हाथ से फिसले हुए पल /
लौट कर आते नहीं हैं /
और उनकी मीठी यादें /
आप बिसराते नहीं हैं /
गुज़रे लम्हे याद करके /
क्यों भला ये आँखे तर हैं/…दर्द का तन्हा सफ़र है |
………………………………..निर्मल

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग