blogid : 16670 postid : 1289313

मेरे पहलू का अँधियारा ---निर्मला सिंह गौर

Posted On: 28 Oct, 2016 Others में

भोर की प्रतीक्षा में ...कविताएँ एवं लेख

Nirmala Singh Gaur

54 Posts

872 Comments

मै दीपक प्रज्वलित ,आल्हादित ,
अपना अंतर्मन सुलगा कर,
करता हूँ आकाश प्रकाशित ,
तुमने स्वर्ण पत्र मढ़ डाला ,
मिटटी के बेढब से तन को ,
किन्तु झांक कर देखा है क्या ,
मेरे तल के स्थिर तम को |
.
जब जलता हूँ घर के द्वारे ,
हो जाते हैं पथ उजयारे,
अंधकार के काले साये ,
भगते हैं सब डर के मारे|
.
फिर भी हूँ बिक्षुब्ध ज़रा सा ,
दूर तलक तो है उजियारा ,
किन्तु कभी ना मिट पायेगा ,
मेरे पहलू का अँधियारा |
.
इतना अनुभव तो है मेरा ,
अगर बुराई का हो डेरा ,
उसे मिटाना है तुमको तो ,
कुछ तो आखिर करना होगा ,
थोडा सा तो जलना होगा |
.
मेरे सारे भाई सज गये
हर घर में मन रही दिवाली ,
लक्ष्मीजी के आवाहन को
सबने सिर पर आग सजा ली ,
हार गया है दीपोत्सव से ,
अमावस्य का काला साया ,
किन्तु कभी ना मिट पायेगा ,
मेरे पहलू का अँधियारा |
.
तुमने ईश्वर के सम्मुख रख ,
रोज़ किया सम्मानित मुझको ,
मिटटी का कण बना सितारा ,
किन्तु मिटा ना पाए भगवन,
मेरे पहलू का अँधियारा ||
.
सभी साथियों को दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएं —निर्मल

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग