blogid : 16670 postid : 652939

मोह ---निर्मला सिंह गौर की कविता

Posted On: 24 Nov, 2013 Others में

भोर की प्रतीक्षा में ...कविताएँ एवं लेख

Nirmala Singh Gaur

54 Posts

872 Comments

मोह की दीवार पर आसन्न हम
कंकडों की चुभन को सहते रहे
थे अधर मुस्कान से परिचित मगर
अश्रु भी नयनो तले बसते रहे |
.
हम सदा कर्तव्य पालन में रहे
वार खाकर भी डटे रण में रहे
दर्द की करते रहे अवहेलना
घाव रह रह कर मगर रिसते रहे
अश्रु भी नयनो तले बसते रहे |
.
हम नहीं अनभिज्ञ थे संघर्ष से
कुटिलताओं से रचे आदर्श से
आगमन उत्सव है तो प्रस्थान भी
किन्तु स्मृति सर्प तो डसते रहे
अश्रु भी नयनो तले बसते रहे |
.
स्वजन हित की खोज में आसक्त हम
किस महात्मा के हुए अभिषप्त हम
जिस घड़ी ठोकर से हम मूर्छित हुये
करके अवलोकन स्वजन हँसते रहे
अश्रु भी नयनो तले बसते रहे |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग