blogid : 16670 postid : 896843

संतुलन ---निर्मला सिंह गौर (विश्व पर्यावरण दिवस पर )

Posted On: 5 Jun, 2015 Others में

भोर की प्रतीक्षा में ...कविताएँ एवं लेख

Nirmala Singh Gaur

54 Posts

872 Comments

जब हवा कुछ सर चढ़ी होने लगी
तो धरा की बेहतरी होने लगी
उड़ चले बादल मरुस्थल की तरफ
रेत भी थोड़ी हरी होने लगी |
.
कैद जब से हो गया नदिया का जल
तो धरा पर रात में दिन हो गया
बस गयीं लघु सूरजों की बस्तियां
चाँद का तेजस्व भी कम हो गया |
.
पर्वतों की शल्य जब से हो गयी
लोह ताम्बे की जमातें बिछ गयीं
कारखाने खा गए खलिहान को
रेल सड़कें खेत सारे डस गईं|
.
आम के बागान जब से कट गए
कोयलें भी बेसुरी होने लगीं
तितलियों के रंग धुंधले पड़ गए
जब गुलों की तस्करी होने लगी |
.
दौड़ में सब लोग शामिल हो गए
रिश्ते नाते भीड़ में सब खो गए
सोते बच्चे छोड़ निकला था सुबह
रात जब लौटा तो बच्चे सो गए |
.
ये तरक्की का सुखद अवतार है
अविष्कारों का बड़ा आभार है
प्यार कम और शौक सुविधाएँ अधिक
संतुलन भी तो यहाँ दरकार है
संतुलन भी तो यहाँ दरकार है |

……………………………………….निर्मल

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग