blogid : 11863 postid : 12

नारी तेरी यही कहानी

Posted On: 24 Jul, 2012 Others में

social issueJust another weblog

vijay

24 Posts

63 Comments

नारी तेरी यही कहानी
कभी अपनी गुड़ियों के लिए चुन्निया इक्कट्ठी करती,कभी अपनी सहेलियों के साथ पाबिटा
खेलती बाबा ने मुझे कब स्कुल में भर्ती करा दिया मुझे पता ही नहीं चला | रोज मेरी माँ
स्कुल जाने के लिए मुझे तैयार करती मेरी चोटी बनाती अक्सर चोटियो के रि-वनो में फसा
मेरा दिमाग कभी इस बात की ओर नहीं गया कि क्यों मेरे से दो साल बड़े मेरे भाई को
ज्यादा फ़ीस वाले अंग्रेजी मीडियम स्कुल पदाया गया और मुझको सरकारी विद्यालय में
चार साल कि में तो अक्सर स्कुल में भी गुड़िया गुड्डो कि ही बाते करती रहती थी |एक
दिन बाबूजी भईया और मुझे नए कपड़े व मिठाई दिलवा के लाए मुझे बताया गया कि अगले
दिन रक्षा बन्धन है मैं भाई की कलाई पर राखी बाधुगी और इसके बदले में मेरा भाई मेरी
रक्षा करेगा मुझे पहली बार अहसास हुआ कि मैं निर्बल हु इसलिए मेरे भाई को मेरी रक्षा
करनी पड़ेगी,मध्यमवर्गीय हिन्दू परिवार में होने के कारण मुझे रामायण,महाभारत आदि ग्रंथो
का अध्ययन कराया गया मेरी दादी मुझे सती सावत्री ,सती अनुसुया कि कहानी सुनाती थी मेरा बाल
मन भी ये कहानी सुनकर कल्पना करता कि मैं भी बड़े होकर सती सावत्री बनूगी |
धीरे धीरे समय अपना असर दिखाने लगा मैंने जीवन के सोलाह वर्ष पूरे कर लिए इसी
के साथ मेरे ऊपर घरवालो की बंदिशे भी शुरू हो गयी मेरे पहनने के कपड़े से लेकर मेरी
सहलियों तक हर चीज पर मेरे घरवालो की टोकाटाकी शुरू हो गयी जबकि मेरा भाई जैसे
चाहे वैसे रहता उस पर कोई वंदिशे नहीं थी वो अपने साथ पदने वाली लड्कियों को घर पर
ले भी आता तो मेरी दादी ,मम्मी बहुत खुश होती और अगर मैं अपने बचपन में साथ खेलेने
वाले लड़कों से बोल भी लेती तो मुझे डाट पड़ जाती थी मैं अब घरवालो के चिंता का विषय हो
गयी अक्सर मैंने माँ को बाबूजी के साथ मेरी शादी के विषय में चिंतित होते देखा \
बाहर का समाज भी अब मेरे लिए बिलकुल बदल गया था अक्सर मैंने मोहल्ले व आस
पास के पुरुषों की आखो को अपने शरीर को भेदता हुआ पाया मुझे लगता था कि जैसे
मै एक हाड् मांस कि चीज हू मेरे मन की भावनाये समझने वाला कोई नहीं था ना मेरे घर
पर ना बाहर, मुझे इस समाजिक व्यवस्था से चिड होने लगी  है मैं यह सोचती हू कि मैंने
लड़की होकर ऐसा क्या गुनाह कर दिया है जिसकी अप्रत्यक्ष रूप से घर पर या कभी समाज में
मुझे सजा दी जाती है या हम भारतीय लोगों का इतिहास ही कुछ ऐसा है जिसमे महाभारत में
द्रोपदी को एक वस्तु समझकर जुए में हार दिया जाता है और फिर भी युधिष्ठिर धर्मराज कहलाते
है ये कोन सा धर्म था कि अपनी पत्नी को ही वस्तु समझकर जुए में दाव पर लगा दे,और वो
कोन से मर्यादा पुरषोत्तम राम थे जिसने एक धोबी के कहने पर अपनी गर्भवती पत्नी को जंगल
में छोड़ दिया था क्यों सतयुग में भी सीता को अग्नि परीक्षा से गुजरना पड़ा था ? वो चाहती तो
भोग बिलास से महल में रह सकती थी क्यों वो राम के साथ वनवास काटने गयी थी ? अगर
हमारे इश्वर भी स्त्री विरोधी मानसिकता के थे तो मैं ऐसे इश्वर का अस्तित्व स्वीकार नहीं करुंगी
युगों युगों से औरत मर्दों के लिए अपने सुखो का त्याग करती रही है ऐसा क्यों है ? क्यों सती सावित्री ही
यमराज से लड़कर अपने पति के प्राण वापस लायी क्यों नहीं आजतक कोई पति अपनी पत्नी के प्राण
यमराज से वापस लाया ? करवाचोथ ,रक्षाबंधन, अहोई अष्टमी,ये सब त्यौहार रूपी परम्पराए भी औरतो का शोषण
का साधन है मर्दों के लिए कोई करवाचोथ क्यों नहीं है हमारा इतिहास ही कुछ ऐसा है कभी हम पति
कि मुत्यु पर उसकी चिता के साथ जिंदा जला दिए गए तो कभी पति के युद्ध हारने पर शत्रुयो के
हरम की शोभा बन गए अगर ये रीति रिवाज ये परम्पराए हमें अपना अस्तित्व नहीं पाने देगे तो हमें
ऐसे इतिहास को बदलने की जरुरत है ये सारा इतिहास ,महाकाव्य,पुरातन ग्रन्थ, किवदंतियां उस पुरुष
प्रुभुत्व समाजिक तंत्र को प्राणवायु देने के लिए है जिसके वजह से हम स्त्रियों का शोषण करना आसान
हो जाता है हमें इतिहास की दुहाई देकर चुप करा दिया जाता है पर अब हम चुप नहीं बैठेंगे ,इस दुनिया
में कभी रंग भेद पर क्रांति तो कभी सर्वहारा और पूंजीपतियों का संघर्ष हो चुका है पर स्त्रियों के अधिकारों के
लिए केवल सुधार होता है क्यों कोई क्रांति नहीं होती ? आप सोच रहे होंगे की में कोन हू आइए में आप
से अपना परिचय करा देती हू में वो हर लड़की हू जो कभी गोहाटी की सड़को पर सरेआम नोंची जाती है, मै
वो भी हू जिसके मुह पर कुछ सिरफिरे अपनी मंशा पूरी ना होने पर तेजाब फ़ेक देते है
मैं वो भी हू, जो कभी अपने ससुर के हाथो रेप कर दी जाती हू मैं वो बच्ची भी हू जो हवस का शिकार बन
जाती है हम कब तक ऐसे चुप रहेंगे कब तक दूसरे की गलती के लिए खुद को दोषी ठहराते रहेंगे |
आओ हम मिलकर संघर्ष करेंगे परिवर्तन के लिए ,क्रांति के लिए अपनी आने वाली पीड़ीयो को एक नया
इतिहास देने के लि

नारी तेरी यही कहानी

कभी अपनी गुड़ियों के लिए चुन्निया इक्कट्ठी करती,कभी अपनी सहेलियों के साथ पाबिटा

खेलती बाबा ने मुझे कब स्कुल में भर्ती करा दिया मुझे पता ही नहीं चला | रोज मेरी माँ

स्कुल जाने के लिए मुझे तैयार करती मेरी चोटी बनाती अक्सर चोटियो के रि-वनो में फसा

मेरा दिमाग कभी इस बात की ओर नहीं गया कि क्यों मेरे से दो साल बड़े मेरे भाई को

ज्यादा फ़ीस वाले अंग्रेजी मीडियम स्कुल पदाया गया और मुझको सरकारी विद्यालय में

चार साल कि में तो अक्सर स्कुल में भी गुड़िया गुड्डो कि ही बाते करती रहती थी |एक

दिन बाबूजी भईया और मुझे नए कपड़े व मिठाई दिलवा के लाए मुझे बताया गया कि अगले

दिन रक्षा बन्धन है मैं भाई की कलाई पर राखी बाधुगी और इसके बदले में मेरा भाई मेरी

रक्षा करेगा मुझे पहली बार अहसास हुआ कि मैं निर्बल हु इसलिए मेरे भाई को मेरी रक्षा

करनी पड़ेगी,मध्यमवर्गीय हिन्दू परिवार में होने के कारण मुझे रामायण,महाभारत आदि ग्रंथो

का अध्ययन कराया गया मेरी दादी मुझे सती सावत्री ,सती अनुसुया कि कहानी सुनाती थी मेरा बाल

मन भी ये कहानी सुनकर कल्पना करता कि मैं भी बड़े होकर सती सावत्री बनूगी |

धीरे धीरे समय अपना असर दिखाने लगा मैंने जीवन के सोलाह वर्ष पूरे कर लिए इसी

के साथ मेरे ऊपर घरवालो की बंदिशे भी शुरू हो गयी मेरे पहनने के कपड़े से लेकर मेरी

सहलियों तक हर चीज पर मेरे घरवालो की टोकाटाकी शुरू हो गयी जबकि मेरा भाई जैसे

चाहे वैसे रहता उस पर कोई वंदिशे नहीं थी वो अपने साथ पदने वाली लड्कियों को घर पर

ले भी आता तो मेरी दादी ,मम्मी बहुत खुश होती और अगर मैं अपने बचपन में साथ खेलेने

वाले लड़कों से बोल भी लेती तो मुझे डाट पड़ जाती थी मैं अब घरवालो के चिंता का विषय हो

गयी अक्सर मैंने माँ को बाबूजी के साथ मेरी शादी के विषय में चिंतित होते देखा |

बाहर का समाज भी अब मेरे लिए बिलकुल बदल गया था अक्सर मैंने मोहल्ले व आस

पास के पुरुषों की आखो को अपने शरीर को भेदता हुआ पाया मुझे लगता था कि जैसे

मै एक हाड् मांस कि चीज हू मेरे मन की भावनाये समझने वाला कोई नहीं था ना मेरे घर

पर ना बाहर, मुझे इस समाजिक व्यवस्था से चिड होने लगी  है मैं यह सोचती हू कि मैंने

लड़की होकर ऐसा क्या गुनाह कर दिया है जिसकी अप्रत्यक्ष रूप से घर पर या कभी समाज में

मुझे सजा दी जाती है या हम भारतीय लोगों का इतिहास ही कुछ ऐसा है जिसमे महाभारत में

द्रोपदी को एक वस्तु समझकर जुए में हार दिया जाता है और फिर भी युधिष्ठिर धर्मराज कहलाते

है ये कौन सा धर्म था कि अपनी पत्नी को ही वस्तु समझकर जुए में दाव पर लगा दे,और वो

कौन से मर्यादा पुरषोत्तम राम थे जिसने एक धोबी के कहने पर अपनी गर्भवती पत्नी को जंगल

में छोड़ दिया था क्यों सतयुग में भी सीता को अग्नि परीक्षा से गुजरना पड़ा था ? वो चाहती तो

भोग बिलास से महल में रह सकती थी क्यों वो राम के साथ वनवास काटने गयी थी ? अगर

हमारे इश्वर भी स्त्री विरोधी मानसिकता के थे तो मैं ऐसे इश्वर का अस्तित्व स्वीकार नहीं करुंगी |

युगों युगों से औरत मर्दों के लिए अपने सुखो का त्याग करती रही है ऐसा क्यों है ? क्यों सती सावित्री ही

यमराज से लड़कर अपने पति के प्राण वापस लायी क्यों नहीं आजतक कोई पति अपनी पत्नी के प्राण

यमराज से वापस लाया ? करवाचौथ ,रक्षाबंधन, अहोई अष्टमी,ये सब त्यौहार रूपी परम्पराए भी औरतो का शोषण

का साधन है मर्दों के लिए कोई करवाचौथ क्यों नहीं है हमारा इतिहास ही कुछ ऐसा है कभी हम पति

कि मुत्यु पर उसकी चिता के साथ जिंदा जला दिए गए तो कभी पति के युद्ध हारने पर शत्रुयो के

हरम की शोभा बन गए अगर ये रीति रिवाज ये परम्पराए हमें अपना अस्तित्व नहीं पाने देगे तो हमें

ऐसे इतिहास को बदलने की जरुरत है ये सारा इतिहास ,महाकाव्य,पुरातन ग्रन्थ, किवदंतियां उस पुरुष

प्रभुत्व’ समाजिक तंत्र को प्राणवायु देने के लिए है जिसके वजह से हम स्त्रियों का शोषण करना आसान

हो जाता है हमें इतिहास की दुहाई देकर चुप करा दिया जाता है पर अब हम चुप नहीं बैठेंगे ,इस दुनिया

में कभी रंग भेद पर क्रांति तो कभी सर्वहारा और पूंजीपतियों का संघर्ष हो चुका है पर स्त्रियों के अधिकारों के

लिए केवल सुधार होता है क्यों कोई क्रांति नहीं होती ? आप सोच रहे होंगे की में कौन हू आइए में आप

से अपना परिचय करा देती हू मैं  वो हर लड़की हू जो कभी गोहाटी की सड़को पर सरेआम नोंची जाती है, मै

वो भी हू जिसके मुह पर कुछ सिरफिरे अपनी मंशा पूरी ना होने पर तेजाब फ़ेक देते है

मैं वो भी हू, जो कभी अपने ससुर के हाथो रेप कर दी जाती हू मैं वो बच्ची भी हू जो हवस का शिकार बन

जाती है हम कब तक ऐसे चुप रहेंगे कब तक दूसरे की गलती के लिए खुद को दोषी ठहराते रहेंगे |

आओ हम मिलकर संघर्ष करेंगे परिवर्तन के लिए ,क्रांति के लिए अपनी आने वाली पीड़ीयो को एक नया

इतिहास देने के लिए !

(v.k.azad)

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग