blogid : 8098 postid : 1383393

बजट और देश !

Posted On: 4 Feb, 2018 Others में

युवामंचसत्यमेव जयते

Govind Bharatvanshi

69 Posts

19 Comments

आदरणीय मित्रों ,….सादर प्रणाम !

माननीय मोदी सरकार ने अपना चौथा पूर्ण बजट प्रस्तुत कर दिया है !…….आधारभूत समेकित विकास के लिए समर्पित शानदार बजट गाँव गरीब महिला किसान मजदूर नौजवान के लिए विशेष हितैषी है !…….श्रेष्ठ सरकार की आयुष्मान योजना से गरीब जनता को अत्यंत लाभ होता दिख रहा है !…….. …..यद्यपि उच्च मध्यम वर्ग को कुछ निराशा हुई है लेकिन मध्यमवर्ग सदैव राष्ट्रहित में स्वार्थ का त्याग करता आया है !……..मध्यवर्ग को प्रत्यक्ष विशेष राहत न मिलने के बावजूद इस बजट से सबका विकास निश्चित है !…………….इस बजट में ग्रामीण जनजीवन का कायापलट करने की अत्यंत प्रबल संभावना है !……..ग्रामीण उत्थान से सम्पूर्ण उत्थान सिद्ध होगा !……..इस बजट में शिक्षा और स्वास्थ्य पर भी विशेष ध्यान दिया गया है ,…..वास्तव में ये दोनों पहलू मानवता के लिए अत्यंत अनिवार्य हैं !………भारतवर्ष अपनी श्रेष्ठतम शिक्षा और सर्वोत्तम आयुर्वेद से सर्वोन्नत मानवता के लिए जाना जाता रहा है !………विदेशी लुटेरों ने हमारे इन दोनों ज्ञानमयी दृढ़ स्तंभों पर भारी चोट पहुंचाई है !……….इस श्रेष्ठ सरकार में बना आयुष मंत्रालय अबतक लुंजपुंज नकारा है !…….अखिल भारतीय वैदिक शिक्षा बोर्ड का अब तक न बन पाना भी पीड़ादायक है !…….आयकर सीमा बढ़ाना भी आवश्यक लगता है !………बहरहाल ….स्वास्थ्य और शिक्षा के विषय में सरकार को परमपूज्य स्वामी रामदेवजी के अनमोल परामर्श का विशेष लाभ उठाना चाहिए !………श्रेष्ठ सरकार के बजट प्रस्ताव अत्यंत सराहनीय हैं ,….बजट प्रस्तावों की पूर्ण सफलता कुशल क्रियान्वयन से होगी ,……. …इस विषय में भी मोदी सरकार सर्वश्रेष्ठ सिद्ध हो चुकी है !……….भारतीय मानवता अपनी श्रेष्ठ सरकार का हार्दिक आभार अभिनन्दन करती है !….और ….. छूटे-पिछड़े विषयों पर शीघ्र ध्यान देने की प्रार्थना भी करती है !………आयुष्मान योजना को आयुर्वेद से जोड़कर सार्थक सम्पूर्णता आएगी !……..खाऊ कुकर्मियों के लम्बे राज में फर्जीवाड़ियों की फ़ौज भी बनी है ,….हम विश्वास करते हैं कि महान मोदी सरकार सर्वोत्तम योजना बनाकर सार्थकता से लागू करेगी !………..देशभक्त समर्थ सरकार से समस्त अपेक्षाएं पूर्ण करने की आशा है !……इस उत्तम बजट से देश को बहुत आशाएं हैं !…….

एक और बात ,….एक उच्चतर दृष्टिकोण से ये सबकुछ एक छलना प्रहसन जैसा भी लगता है !…………..मानवता की यथार्थ उन्नति भगवत्ता के साथ सचेतन संयोग से होगी ,….यही आगामी मानवता का यथार्थ भी है !……तब तक हमें सर्वोत्तम संभवनीय कर्म करते रहना चाहिए !……..अतिशय बढती जनसँख्या हमारी तमाम भौतिक समस्याओं का मूल है ,………समर्थ विद्वतजनों को इस विषय पर गंभीरता से सोचना चाहिए !…….मृतप्राय कांग्रेस से कोई आशा रखनी व्यर्थ है ,….तीन तलाक के कलंकित समर्थकों से देशहितकारी जनसँख्या नियंत्रण कानून में सहयोग की अपेक्षा रखना बेमानी लगता है ,……लेकिन … देशभक्तों के बहुमत से उच्च अपेक्षा रखना आम आदमी का अधिकार है !…….. मानवीय सत्ताओं को समय रहते सार्थक कार्य करना होगा ,…अन्यथा …. अधिमानवीय या अमानवीय सत्ताएं प्रकृति के लिए कार्य करेंगी !……तब हमारी सीमित मन बुद्धि को परमदयालु परमात्मा भी क्रूर दैत्य जैसा लग सकता है !…….…..ॐ शान्ति !…….भारत माता की जय !!…………वन्देमातरम !!!

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग