blogid : 4981 postid : 23

एक लड़का जाने क्यूँ .................

Posted On: 17 Oct, 2011 Others में

Kalam Ki Awaaz Se.....kuch kalam ki baatein....

shalinisharma

46 Posts

82 Comments

एक लड़का है अनजाना सा,
न जाने क्या करता है ,
समुंद्र के किनारे पढता है ,
लेकिन न जाने क्यूँ ,
सुबह पांच बजे नहीं उठ पाता है |

एक लड़का है परेशान सा ,
न जाने क्या सोचता है ,
खुबसूरत शहर में रहता है ,
लेकिन ना जाने क्यूँ ,
सुबह पांच बजे नहीं उठ पाता है |

एक लड़का है आलसी सा,
जाने क्या आदत है ,
बिहारियों के बीच पला है,
लेकिन ना जाने क्यूँ ,
सुबह पांच बजे नहीं उठ पाता है |

एक लड़का है सुधरा सा ,
जाने क्या सपने है,
मेहनत करने में आगे है,
लेकिन ना जाने क्यूँ ,
सुबह पांच बजे नहीं उठ पाता था |

एक लड़का है जाने कैसा है ,
समझता तो है,
लेकिन ना जाने क्यूँ ,
सुबह पांच बजे नहीं उठ पाता है |

शालिनी शर्मा

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग