blogid : 12543 postid : 904808

योग हिन्दु क्यों ? नमाज़ मुसलमान क्यों ?

Posted On: 11 Jun, 2015 Others में

SHAHENSHAH KI QALAM SE! शहंशाह की क़लम से!सच बात-हक़ के साथ! SACH BAAT-HAQ KE SAATH!

SYED SHAHENSHAH HAIDER ABIDI

60 Posts

43 Comments

दिनांक: 11.06.2015
जनहित, समाजहित और राष्ट्र हित में प्रकाशानार्थ सादर प्रेषित।

योग हिन्दु क्यों ? नमाज़ मुसलमान क्यों ?

21 जून 2015 प्रथम अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस जैसे जैसे क़रीब आ रहा है। इसका विरोध और समर्थन अपने शबाब पर पहुंच रहा है । आम आदमी यह समझ नहीं पा रहा है कि किसी औवेसी, बुखारी, ठाकरे, तो-गड़िया, गिरिराज, साध्वी, साक्षी, स्वामी और योगी आदि आदि आदि……. के अपनी-2 भाषा में, अपने मुखपत्रों को या देश के किसी के कोने में किसी संचार माध्यम को दिये गये बेतुके बेहूदा बोल, इतने महत्वपूर्ण क्यों हो जाते हैं कि इनका राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय भाषा में अनुवाद किया जाये और मुख्य समाचार बनाकर पूरे देश में प्रकाशित किया जाये, टी0वी0 चैनलों पर दिन रात प्रसारित कर लम्बी -2 चर्चा कराई जाये? देश और उसकी आम अवाम के दूसरे अहम मुद्दे गौण हो जायें। देश का प्रधानमंत्री भी इन बदतमीज़ बडबोलों के आगे इसलिये असहाय नज़र आये क्योंकि वो भी कल तक इसी तरह की बयानबाज़ी को अपनी शान समझता था?
दर असल समस्या की जड़ है अपने को श्रैष्ठ और सही समझते हुये दूसरे को हीन और ग़लत समझना। यहीं से शुरू होता है अविश्वास, और फिर संवाद हीनता। संवादहीनता पैदा करती है अनगिनत समस्याऐं।
हमारे अल्पज्ञान के अनुसार योग एक आध्यात्मिक प्रकिया को कहते हैं जिसमें शरीर, मन और आत्मा को एक साथ लाने और ईश्वर का ध्यान लगाने का काम होता है। यह शब्द, प्रक्रिया और धारणा बौद्ध धर्म,जैन धर्म और हिंदू धर्म में ध्यान प्रक्रिया से सम्बंधित है। योग शब्द भारत से बौद्ध धर्म के साथ चीन, जापान, तिब्बत, दक्षिण पूर्व एशिया और श्री लंका में भी फैल गया है और इस समय सारे सभ्य जगत में लोग इससे परिचित हैं।
इतनी प्रसिद्धि के बावजूद इसकी परिभाषा सुनिश्चित नहीं है। श्रीमद भगवत गीता जैसे प्रतिष्ठित ग्रंथ में योग शब्द का कई बार प्रयोग हुआ है, कभी अकेले और कभी सविशेषण, जैसे बुद्धियोग, संन्यासयोग, कर्मयोग। वेदोत्तर काल में भक्तियोग और हठयोग नाम भी प्रचलित हो गए हैं।
महात्मा गांधी ने अनासक्ति योग का व्यवहार किया है। पातंजल योगदर्शन में क्रियायोग शब्द देखने में आता है। पाशुपत योग और माहेश्वर योग जैसे शब्दों का भी चर्चा मिलती है। इन सब स्थलों में योग शब्द के जो अर्थ हैं वह एक दूसरे के विरोधी हैं परंतु इतने विभिन्न प्रयोगों को देखने से यह तो स्पष्ट हो जाता है कि योग की परिभाषा करना कठिन काम है। परिभाषा ऐसी होनी चाहिए जो अव्याप्ति और अतिव्याप्ति दोषों से मुक्त हो, योग शब्द के वाच्यार्थ का ऐसा लक्षण बतला सके जो प्रत्येक प्रसंग के लिये उपयुक्त हो और योग के सिवाय किसी अन्य वस्तु के लिये उपयुक्त न हो।
जिस प्रकार स्वर्ण आग में तप कर कुंदन बनता है, उसी प्रकार अपने भीतर के कुसंस्कारों, कुकर्मों व कलुषता का त्याग करने व योग साधना के योग्य बनने के लिये योग व तप की आवश्यकता होती है ताकि हम आत्म साक्षात्कार कर सकें। तप से तात्पर्य पूजा पाठ, अर्चना आदि से नहीं है बल्कि बुरी आदतों को प्रयत्नपूर्वक त्यागना ही तप है।
सनातन धर्म से लेकर इस्लाम धर्म तक सभी अवतारों, पैगम्बरों ने जन-जन के लाभ हेतु योग को महत्व दिया है नाम भले ही कुछ और दिया हो और हमारी दिनचर्या का अभिन्न अंग बनाने के लिये इसे पूजा – अर्चना और इबादत से जोड़ दिया है ताकि हम ईश्वर/ अल्लाह की प्रार्थना हेतु बैठें तो भी सेहत का लाभ हमें मिलता रहे।
नमाज़ भी एक आध्यात्मिक प्रकिया को कहते हैं जिसमें शरीर, मन और आत्मा को एक साथ लाने और अल्लाह का ध्यान लगाने का काम होता है। इस्लाम में इस पहले अहम सूतून को ही अल्लाह की “इबादत” कहा गया।
नमाज़ में योग के और योग में नमाज़ के दर्शन होते हैं। जब नमाज़ पढ़ी जाती है तो वज्रासन की मुद्रा में बार-बार आना होता है। ईसाई धर्म का निशान क्रास भी योग की ही मुद्रा है।योग को हिंदू दर्शन का अंग माना जाता है, लेकिन समाज और मनुष्य की बेहतरी के लिए किसी अन्य धर्म के दर्शन को अपनाने में कोई बुराई नहीं है।
मोहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) एक अज़ीम योगी थे, खुदा के लिये इबादत करने का तरीका ‘नमाज़’ इसे योग से जोड़ती है । वह बिना योग का अभ्यास किए इसे नहीं कर सकते थे। ऐसी हमारी कल्पना है।
हम आज भी दिन में पांच बार नमाज़ पढ़ते हैं, यानी योग करते हैं। किसी को कोई एतराज न हो, इस बात का ध्यान रखते हुए यहां नमाज़ (योग) की शुरुआत ‘बिस्मिल्लाह अल रहमान अल रहीम’ से होती है। नमाज़ पढ़ने का तरीक़े में “तकबीरःतुल अहराम”, “क़ियाम”, “रुकूअ”, “सजदा”, “क़ुनूत”, और “तशःहुद व सलाम” अरकान काफी हद तक योग की विभिन्न प्रक्रियाओं से मिलते जुलते हैं। या यूं भी कहूं तो गलत नहीं होगा कि योग की विभिन्न प्रक्रियाऐं, नमाज़ के अरकान से काफी हद तक मिलती हैं।
“वसुधैव कुटुंबकम” की अवधारणा वाले सबसे प्राचीन ‘सनातन धर्म’ पर केवल हिंदुओं का एकाधिकार क्यों? “अलहम्दो लिल्ल्लाहे रब्बुल आलेमीन” का ऐलान करने वाले सबसे आधुनिक धर्म ‘इस्लाम’ के सिर्फ मुसलमान ठेकेदार क्यों ?
सोचिये और थोड़ा दिल बड़ा कीजिये आपको योगा में नमाज़ के और नमाज़ में योगा के बहुत से गुण मिल जायेंगे। तो फिर कहिये – हिन्दुस्तान ज़िन्दाबाद ! ज़िन्दाबाद !! ज़िन्दाबाद !!!

(सैयद शहनशाह हैदर आब्दी)
वरिष्ठ समाजवादी चिंतक
राष्ट्रीय कार्य समिति सदस्य
स्टील मेटल और इंजिनियरिंग वर्कर्स फेडरेशन आफ इंडिया
सम्बध्द-हिन्द मज़दूर सभा एवं इंडस्ट्रीआल ग्लोबल यूनियन – जनेवा
उप-अभियंता (बाह्य अभियांत्रिकी सेवाऐं)- भेल झांसी (उ0प्र0)
नमाज़yoga postures

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग