blogid : 12455 postid : 1352753

कंटीली झाड़ियों के बीच फंसा था मेरा दिल

Posted On: 15 Sep, 2017 Others में

jagate rahoJust another weblog

harirawat

430 Posts

1015 Comments

इस राह चले अनजान थे हम,
जब आँख खुली नीलाम्बर था,
थी झाड़ियाँ कंटीली मगर,
लगता कहीं दूर समुन्दर था,
झाड़ियाँ तो काटी हमने,
राह के पत्थर हटा दिए,
दिल झाड़ियों में फंसा रहा,
नशे में हम थे बिना पिए !
राहगीर अब बिना रुकावट,
इस राह पर आते जाते हैं,
मेरे फंसे हुए दिल पर
एक नजर जरूर लगाते हैं !
मैं भ्रम यह पाले था,
दिल मेरा मेरे पास नहीं,
समाज सेवा करते करते,
था दिल कहीं दिमाग कहीं !
और एक दिन अचानक किसी ने,
दरवाजा मेरा खटकाया,
दरवाजा खोला द्वारे पे,
कोई नजर नहीं आया !
इधर बाईं तरफ सीने में मेरे
दिल मेरा धड़क रहा था,
जन सेवक की हानि नहीं होती,
.कानों में कोई कह रहा था ! हरेंद्र

,

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग