blogid : 12455 postid : 1109235

मोदी एक युग पुरुष

Posted On: 22 Oct, 2015 Others में

jagate rahoJust another weblog

harirawat

427 Posts

1015 Comments

modiनरेंद्र मोदी नाम है, युग पुरुष तू जान,
है भारत को दिया हुआ कुदरत का वरदान,
कुदरत का वरदान, देखो प्रगति ध्वजा उठाए,
मुश्किल से मुश्किल वाधा भी राह से उसकी हट जाए !
कहे “रावत” कविराय सुनो, विपक्ष की दशा निराली,
वर्षों से जमा था काला धन हुआ मिनटों में खाली !! 1

हर दम करता काम वो करता नहीं विश्राम,
“मंजिल” गरीबों की खुशी दिल में हैं “श्रीराम” !
दिल में है श्री राम, सर पर माँ का हाथ,
बल बुद्धि देने के लिए है “पवन पुत्र” का साथ !
कहे कवि सुनो श्रोताओ आई संतों की टोली,
जुग जुग जिओ नरेंद्र मोदी भारत माता बोली !!२

दानवीर हैं मोदी जी वेतन करते दान,
कर्मवीर बनकरके, करते जन कल्याण !
करते जन कल्याण विपक्ष समझ न पाए,
किस मिट्टी का बना है मोदी समझ न उनकी आए !
तन मन धन अर्पित देश पर, गर्दिश में भ्रष्टाचारी चोर,
काला धन तो ले लिया है अब गले फांसी की डोर,
असुर निशाचर हत्यारे भागो हो गई भोर,
अब बचने नहीं पाओगे गली गली में शोर !!३

हर गरीब का बैंक में खुलवाया अकाउंट,
देख देख के विपक्ष ने पिया जहर का घूँट,
पिया जहर का घूँट, फिर भी चैन न आया,
चिंता से निंद्रा भागी, पेन किलर फिर खाया !
लालू नीतीश का गठ बंधन स्वार्थ का इसमें धागा,
विकास प्रेमी हर विहारी इसे तोड़ के भागा ! ४

प्रगति रथ पर नरेंद्र मोदी, अचंभित है इंसान,
किस मिटटी से इसे बनाया, उलझन में भगवान !
उलझन में भगवान, पर मोदी सबसे आगे,
सारे विपक्ष ने एक साथ ही अपशब्दों के गोले दागे !
कहे रावत कवि राय मोदी तो पिछ्ला कूड़ा हटा रहे हैं,
सेल्फ मेड धर्म निरपेक्ष शक्तियां पीछे पीछे भाग रहे हैं !!5

किस मिट्टी का बना है मोदी आदम है हैरान,
कैसे मैंने इसे बनाया सोच रहा भगवान !
सोच रहा भगवान दुष्ट दरिंदे घबराए,
शैतान भी सोच रहा भारत छोड़ के जांए !
धर्म निरपेक्ष शक्तियां हताश नील गगन को देख रहे हैं,
मोदी के रहते कुछ न मिलेगा तगमें अपने फेंक रहे हैं !! ६

मोदी जी के सूट की कहानी, हरेन्द्र की जुवानी !

मुस्कान सदा चेहरे पर रहती, गाली विपक्ष की खाता है,
धन्य हो नरेंद्र मोदी जी, माँ भारत के दिल में रहता है !
कुछ पर्ची वाले नेता हैं भयभीत सदा वे रहते हैं,
जनता के बीच में जाकर भी मोदी मोदी कहते हैं !
एक सस्ती सी सूट जो पहनी सूटेड बूटेड कहलाया,
एक नव सीखे नेता ने, रैली में जनता को बतलाया !
कुबेर बने विपक्षी नेता अब कंठी माला फेर रहे हैं,
राम नाम तो भूल गए मंदिर पंडित को घेर रहे हैं !
बल बुद्धि विद्या का धनि था मोदी अपने लक्ष्य को पाया,
जन सेवक बन करके ही वह ऊंची कुर्सी पर आया !
आंसू गरीब के पोछें मोदी ने अपने आंसू छिपा लिया,
इसीलिए जनता ने उसको अपने दिल में बसा लिया !
पन्द्रह हजार उपहार सूट पर मीडिया ने उपहास किया,
स्वयं दलाली ली करोड़ों में मोदी ने उन्हें माफ़ किया !
अपना सारा वेतन भत्ता उपहार मिले जो राशि में,
जनता की सेवा में दान किया पूरे भारत और कासी में !
मोदी जैसा देव पुरुष ६६ सालों में धरा धाम पर आता है,
कर्म, धर्म और दानवीर बन धरती को स्वर्ग बनाता है !
प्रस्तुति हरेन्द्रसिंह रावत

मोदी जी के ऊपर ये दिलचस्प कविता मुझे व्हाट्सएप पर राजेन्द्र सिंह जी ने भेजी थी !

स्वर्ण मुकुट में हीरे मोती , दलित बहिन को भाते,
आजमखान मुलायम खातिर लंदन से बग्गी लाते,
सुन्नी रेड्डी तिरुपति में सोना अतुल चढ़ाता है,
लालू के “दामाद” तिलक पर खर्च करोड़ों आता है !
फाइव स्टार होटलों में आफिस थरूर का चलता था,
ए राजा के कमरे में सोने का दीपक जलता था !
दत्त तिवाड़ी नारायण तो खर्चीले होते थे,
महामना सुखराम नोट बिस्तर ऊपर सोते थे !
ओ विशाल आनंद भवन की दिन चर्या बतलाती थी,
नेहरू जी की टोपी तक पेरिस से धूल कर आती थी !
लेकिन भारत में एक शख्स है जो बीसों घंटे काम करे’
राष्ट्र प्रयाण के जागरण में तनिक नहीं विश्राम करे !
नहीं तो वो खाने देता नहीं खुद खाता है,
अपना जन्म दिवस भी मोदी सैना बीच मनाता है !
गंगा का बेटा है तन से मन में पीर पराई है,
चाय बेचकर मेहनत करके अपनी मंजिल पाई है !
किन्तु मीडिया को गरीब का जीना नहीं सुहा पाया,
एक सूट जो साधारण था लाखों का जा बतलाया !
मगर देश की जनता ने सम्पूर्ण सफल फल दे डाले,
उसी सूट की सच्चाई पर रुपए करोड़ों दे डाले !
इसीलिए अब हम कहते हैं लेके हाथ रहेंगे जी,
तब भी उनके साथ खड़े थे अब भी साथ रहेंगे जी !!

modi ek yug purush

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग