blogid : 12455 postid : 1370409

स्नेह छलकता है दिल में

Posted On: 25 Nov, 2017 Others में

jagate rahoJust another weblog

harirawat

430 Posts

1015 Comments

स्नेह छलकता है दिल से, अंजुली में भरलो,
वात्सल्य बांटने वालों को स्नेह का उपहार दो !
प्रेम की दरिया दिल में, दिल दिलों को जोड़ लो,
स्नेह प्यार का उपहास हो, उस राह को छोड़ दो !
ये कुदरत का उपहार है, इसे संभाल लो,
वात्सल्य बांटने वालों को वात्सल्य का उपहार दो !
ये सुन्दर फूल पत्तिया, ख़ूशबू बिखराती हुई,
कलकल स्वरों में बहती सरिता, गीत जाती हुई,
पर्वतों से गिरते झरनों की झमझम झांकलों,
वात्सल्य बांटने वालों को, वात्सल्य का उपहार दो !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग