blogid : 12455 postid : 1389637

कबीरदास के दोह : यहांं जो देवे एक लंगोटी वहांं से बिस्तर पावे

Posted On: 27 Nov, 2019 Spiritual में

jagate rahoJust another weblog

harirawat

456 Posts

1015 Comments

कबीरदास जी ने अपने दोहों के जरिए साधारण भाषा में जन जन तक अपना संदेश पहुंचाया है। उन्होने जहां असलियत से इन्सानों को अवगत करवाया, वहीं किसी कुकर्मी के कुकर्मों का जबाब भी बड़े प्रेम से दिया है। पढि़ए कबीरदास के कुछ दोहे।

 

 

जो तो को कांटा बुए, ताही बोई तू फूल,
तो को फूल के फूल हैं वाको मिले त्रिशुल !

 

 

ऐसी वाणी बोलिए, मन का आपा खोय,
औरन को शीतल करे, आपन शीतल होइ !

 

 

निर्बल को न सताइए, जाकी मोटी हाय,
मुई खाल की शांस सो सार भस्म हो जाय !

 

 

काल करे सो आज कर, आज करे सो अब,
पल में परलय हो गई, बहुरि करेगा कब !

 

 

बुरा जो देखन मैं गया बुरा मिला न कोई,
जो दिल देखा आपनो, मुझसे बुरा न कोई !

 

मिट्टी कहे कुमार से तू क्या रौंदे मोइ,
एक दिन ऐसा आएगा मैं रुंदूंगी तोय,

 

 

कंकण पत्थर बांध कर मस्जिद लइ बनाय,
ता ऊपर मुल्ला बांग दे, क्या बहरा भय्या खुदाय !

 

 

हिन्दू ऐसी जात है, पत्थर पूजन जाय,
घर की चकिया कोई न पूजे जिसका पीसा आटा खाय !

 

 

कबीरा खड़ा बाजार में मांगे सबकी खैर,
न काहू से दोस्ती न काहू से बैर !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...
  • Facebook
  • SocialTwist Tell-a-Friend

अन्य ब्लॉग